विश्वविख्यात चंद्रताल झील का दीदार करने के लिए ऑनलाइन लेना होगा परमिट

रोहतांग (लाहौल-स्पीति)
अटल टनल रोहतांग के लोकार्पण के बाद समर सीजन के लिए लाहौल प्रशासन ने कमर कस ली है। घाटी को साफ-सुथरा रखने के साथ पर्यावरण की सुरक्षा के लिए प्रशासन ने रणनीति बनाई है। लाहौल में पर्यटकों भारी भीड़ नहीं जुटने दी जाएगी। समुद्र तल से 4290 मीटर ऊंची विश्वविख्यात चंद्रताल झील का दीदार करने के लिए सीमित संख्या में ही सैलानी भेजे जाएंगे। इसके लिए पर्यटकों को स्थानीय प्रशासन से ऑनलाइन परमिट लेना होगा। दिन में 200 से 300 पर्यटक वाहनों को ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। लाहौल प्रशासन ने झील के आसपास कैंपिंग करने पर भी रोक लगा दी है।

समर सीजन में चंद्रताल झील देखने के लिए जाने वाले पर्यटकों को ऑनलाइन परमिट जारी किए जाएंगे। पर्यटन स्थल में पहले स्थानीय कारोबारियों को कारोबार के लिए तरजीह दी जाएगी। उसके बाद अन्य कारोबारियों को मौका दिया दिया जाएगा। इसके लिए सभी कारोबारियों को पंजीकरण करवाना होगा। अटल टनल के नॉर्थ पोर्टल से सिस्सू तक और गुफा होटल से कोकसर तक जगह-जगह पार्किंग स्थल चिह्नत किए जाएंगे। इनमें तीन से चार हजार तक वाहन खड़ा करने की व्यवस्था होगी। पार्किंग में शौचालय और पेयजल की भी व्यवस्था की जाएगी।

उपायुक्त लाहौल-स्पीति पंकज राय ने कहा कि अटल टनल देखने के लिए बीते दिनों पर्यटकों का हुजूम उमड़ा है। ऐसे में समर सीजन में भी भारी संख्या में पर्यटकों के आने की उम्मीद है। समर सीजन में सिस्सू में हर रोज प्रशासन अधिकारियों की नियुक्ति करेगा। ये सिस्सू से कोकसर तक पर्यटन गतिविधियों पर नजर रखेंगे। चंद्रताल जाने के लिए पर्यटकों को ऑनलाइन परमिट लेना अनिवार्य किया गया है।

Related posts