मत्स्य निदेशालय करवाएगा थ्रीजी मेगा एक्वेरियम का निर्माण, समुद्र में सैर करने जैसा होगा एहसास

मत्स्य निदेशालय करवाएगा थ्रीजी मेगा एक्वेरियम का निर्माण,  समुद्र में सैर करने जैसा होगा एहसास

धर्मशाला में आने वाले देश-विदेश के पर्यटकों को जल्द थ्र्रीजी मेगा एक्वेरियम में विभिन्न प्रकार के जलीय जीव, मछलियां और जलीय पौधे देखने को मिलेंगे। पर्यटकों को एक प्रकार से समुद्र में सैर करने जैसा एहसास होगा, क्योंकि राज्य सरकार का मत्स्य निदेशालय धर्मशाला में चैतडू़ के पास जल्द थ्रीजी मेगा एक्वेरियम का निर्माण करवाएगा। एक हेक्टेयर पर बनने वाले इस मछलीघर पर करीब 80 से 100 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इस पारदर्शी एक्वेरियम में जलीय जीव और पौधे को रखे जाएंगे। इस तरह से अब धर्मशाला की तिब्बती धर्मगुरु…

Read More

आईटीबीपी के जवानों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव, कैंपस सील कर क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया

सांगला/रिकांगपिओ(किन्नौर) हिमाचल के किन्नौर जिले के रिकांगपिओ में आईटीबीपी के एक साथ पांच जवानों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जिला प्रशासन ने आईटीबीपी कैंपस को सील कर पूरे क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया है। आईटीबीपी के प्रवेश द्वारों पर पुलिस और आईटीबीपी के जवान तैनात किए गए हैं। भावानगर, रिकांगपिओ और जंगी को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। आईटीबीपी जवानों के बाजार जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। बाहर से जितने भी जवान रिकांगपिओ पहुंच रहे हैं, उन्हें कैंपस में ही आईसोलेट…

Read More

प्रवासी मजदूरों का सहारा बना जिला प्रशासन किन्नौर

जिला प्रशासन किन्नौर कोविड-19  महामारी से निपटने के लिए प्रदेश में कफ्र्यू के दौरान मजदूरों विशेषकर प्रवासी मजदूरों को राहत प्रदान करने के लिए तत्परता से कार्य कर रहा है। जरूरतमंद प्रवासी मजदूरों की पहचान कर उन्हें हर सम्भव सहायता प्रदान की जा रही है।   जिन मजदूरों व कामगारों के पास रहने के लिए कोई स्थान नहीं है,  जिला प्रशासन द्वारा रहने व भोजन की सुविधा प्रदान की जा रही है। जिला के कल्पा स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला तथा रल्ली में प्रवासी मजदूरों के लिए राहत शिविर स्थापित किये गये हैं, जहां…

Read More

पटवारियों के 1156 पदों के लिए अब तक आए सवा दो लाख आवेदन

शिमला हिमाचल में भरे जाने वाले पटवारियों के 1156 पदों के लिए सवा दो लाख से ज्यादा आवेदन आ गए हैं। सोमवार आवेदन की आखिरी तारीख है। जिलों में डाक के माध्यम से आए कई आवेदन अभी खुले भी नहीं हैं। संभावित है कि संख्या ढाई लाख तक पहुंच जाए। आवेदन करने वालों में पीएचडी, एमएससी, एमबीए, एमसीए, बीडीएस, बीटेक, बीकॉम, बीएसई, एमए और बीए करने वाले भी शामिल हैं। जिला कांगड़ा में एक पद के लिए 400 और मंडी में 200 से ज्यादा के बीच मुकाबला है। कांगड़ा जिला…

Read More

हिमाचल में टूटा एक दशक का रिकॉर्ड, 24 घंटे में हुई इतने एमएम बारिश

शिमला हिमाचल में वर्ष 2011 के बाद बारिश का रिकॉर्ड टूटा है। प्रदेश में चौबीस घंटे में 102.5 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है। गत 14 अगस्त, 2011 में चौबीस घंटे में 74 एमएम बारिश हुई थी।थी। राज्य भर में 24 अगस्त तक मौसम खराब रहने का पूर्वानुमान लगाया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि पहली जून से 18 अगस्त, 2019 तक प्रदेश में 530.7 एमएम बारिश हुई, जो कि सामान्य से 3 फीसदी कम है। इन क्षेत्रों में बहुत भारी बारिश स्थान  …

Read More

किन्नौर के अधिकतर ग्रामीण रूट ठप

सांगला (किन्नौर)। किन्नौर जिले में हल्के हिमपात के बाद शुक्रवार को पूरा दिन मौसम साफ होने के बावजूद भी जनजीवन पूरी तरह से पटरी पर नहीं लौट पाया है। जिले के तीनों खंडों कल्पा, निचार व पूह के दर्जनों ग्रामीण रूटों पर वाहनों की आवाजाही नहीं हो सकी है। इसके चलते जिले के लोगों को अपने गंतव्यों तक पहुंचने के लिए भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। शुक्रवार को मौसम खुलने और तापमान शून्य से नीचे लुढ़कने से जिले से एचआरटीसी की बसें भी देरी से चलीं। सुबह…

Read More

एनएच की खस्ता हालत पर बिफरी भाजपा

रिकांगपिओ (किन्नौर)। राष्ट्रीय उच्च मार्ग पांच कीखस्ता हालत पर किन्नौर भाजपा ने बुधवार को जिलाध्यक्ष बलदेव नेगी और पूर्व विधायक तेजवंत सिंह नेगी की अगुवाई में प्रदेश सरकार के खिलाफ रिकांगपिओ चौक पर हल्ला बोला। रैली को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक तेजवंत ने कहा कि सरकार की नाकामी के चलते चार माह का समय पूरा होने के बाद भी उरनी ढांक के पास एनएच बहाल नहीं हो पाया है। इससे पूर्व भाजपा शासन काल के दौरान जिले पर पारछू का कहर टूटा था, उस समय जिला किन्नौर के 18…

Read More

इस मां से पूछो, क्या होता है बेसहारा होने का दुख?

किन्‍नौर सड़क हादसे में एक साथ मारे गए दो सगे भाई अपने पीछे बूढ़ी मां को रोता छोड़ गए। हालांकि एक भाई की शादी हो चुकी है, लेकिन उसका परिवार कुल्लू में रहता है। इस कारण दोनों भाई अपनी बूढ़ी मां हीरा पति के साथ कल्पा में रहते थे। बस की कमाई से ही दोनों भाइयों की जीवन यापन चल रहा था, लेकिन उन्हें क्या पता था कि गुरुवार को सांगला में उनकी मौत उनका इंतजार कर रही है। इधर, हादसे की सूचना मिलते ही कल्पा में शोक लहर दौड़…

Read More

मिलिए, खतरों के असली खिलाड़ी रावेंद्रम से

अगर हौसला बुलंद हो तो कठिन से कठिन डगर भी आसान हो जाती है। कुछ ऐसा ही जज्बा लेकर मनाली-लेह मार्ग के जोखिम भरे सफर पर निकला है बेंगलूरु का वरुण रावेंद्रम। महज 11 साल की उम्र में वरुण इस रूट पर साइकलिंग करने का रिकॉर्ड बनाकर सबसे कम उम्र का साइकलिस्ट बना है। यह दावा मनाली-लेह रूट पर साइकिल और मोटर बाइक रैली करवाने वाली लद्दाखी संस्था हिमालयन डेजर्ट मोटर बाइक रैली के संयोजक दोरजे ने किया है। बेंगलूरु के एक निजी स्कूल में छठी कक्षा में अध्ययनरत वरुण…

Read More

सड़क की हालत भी बनी हादसे का कारण

सांगला (किन्नौर)। पिछले साल किन्नौर में हुई भारी तबाही के कारण सड़कों को भारी नुकसान हुआ था। इसी दौरान कुपा से लेकर रूतुरंग तक सड़क पूरी तरह से धंस गई थी। इसका एक कारण निजी कंपनी को भी माना जा रहा है। क्योंकि परियोजना निर्माण के बाद कंपनी वहां भूस्खलन पर रोक लगाने में लिए कोई कदम नहीं उठा पाई। यहीं कारण है कि वीरवार को एक बस के यहां दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से कई लोग मौत में मुंह में चले गए। बताया जा रहा है कि एक तो सड़क…

Read More