हिमाचल सहित देश में निर्मित 52 दवाइयों के सैंपल फ़ैल, आखिर कब तक लोगो की सेहत के साथ होता रहेगा खिलवाड़

हिमाचल सहित देश में निर्मित 52 दवाइयों के सैंपल फ़ैल, आखिर कब तक लोगो की सेहत के साथ होता रहेगा खिलवाड़

आज के युग में हर घर में कोई ना कोई व्यक्ति दवाओं का सेवन आवश्य कर रहा है । लेकिन उसको क्या मालूम की उसके द्वारा सेवन की गई दवा की गुणवत्ता कितनी सही व गलत है । आए दिनों दवाओं के सैंपल फ़ैल होने की खबरे प्रकाशित होते रहती है । बस तोते की तरह सम्बंधित विभाग का एक रटारटाया वयान सामने आता है कि उधमियों को नोटिस जारी कर के मार्किट में सप्लाई कि गई दवाइयों को वापस मंगवाया जाएगा । लेकिन जो दवा इस्तेमाल कर ली गई…

Read More

सरकार कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए स्थापित करेगी ‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंस’: मुख्यमंत्री

सरकार कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए स्थापित करेगी ‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंस’: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने आज यहां कहा कि राज्य सरकार सोलन जिले के कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए उत्कृष्ट शिक्षा केंद्र (सेंटर ऑफ एक्सीलेंस) स्थापित करने जा रही है। विशिष्ट सुविधाओं से सुसज्जित इस केंद्र में 27 वर्ष की आयु तक के विशेष रूप से सक्षम बच्चों के लिए आवासीय सुविधाएं, खेल मैदान और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सहित व्यापक सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार दिव्यांगजनों के कल्याण के लिए परियोजना को समयबद्ध पूर्ण करने के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार…

Read More

लोगो की सेहत के साथ खुलेआम हो रहा है खिलवाड़ वैन लगने के बावजूद भी धडल्ले से हो रही बिक्री

लोगो की सेहत के साथ खुलेआम हो रहा है खिलवाड़  वैन लगने के बावजूद भी धडल्ले से हो रही बिक्री

लोगो की जान की परवाह किए बिना ऐसे प्रतिबंधित खाद्य पदार्थ की बिक्री धडल्ले से हो रही है  जिसमे कैंसर जैसी गंम्भीर बीमारी उत्पन करने वाला केमिकल पाया गया है । सैंपल में इसकी पुष्टि होने पर इसको वैन कर दिया गया था। प्रदेश में प्रतिबंध होने के बावजूद कॉटन कैंडी की धड़ल्ले से बिक्री हो रही है। कालका-शिमला नेशनल हाईवे पांच पर आसानी से कॉटन कैंडी की बिक्री की जा रही है। हैरत की बात यह है प्रदेश के प्रवेशद्वार परवाणू के टोल बैरियर पर विक्रेता सरेआम कॉटन कैंडी…

Read More

कॉटन कैंडी के सैंपल फ़ैल, बच्चो को न खाने दे वरना होगी कैंसर जैसी गंम्भीर बीमारी

कॉटन कैंडी के सैंपल फ़ैल, बच्चो को न खाने दे वरना होगी कैंसर जैसी गंम्भीर बीमारी

देश के कई राज्य में इस प्रोडक्ट के सैंपल फ़ैल हुए है इसी कड़ी में हिमाचल प्रदेश के सोलन शहर में बिकने वाली कॉटन कैंडी में हानिकारक केमिकल पाया गया है। शहर से भरे गए कॉटन कैंडी के छह नमूने मानकों पर खरे नहीं उतरे हैं। 20 फरवरी को शहर से सात सैंपल भरे गए थे, जिन्हें जांच के लिए सीटीएल कंडाघाट भेजा गया था। रिपोर्ट में पाया गया कि कैंडी में रोडामाइन-बी केमिकल है, जिससे कैंसर हो सकता है। नगर निगम के खाद्य सुरक्षा विभाग ने संबंधित विक्रेताओं को…

Read More

गुच्छी पर हुआ नया शोध, अब सिर्फ जंगल में ही नहीं कमरे के अंदर भी पैदा कर सकते है गुच्छी

गुच्छी पर हुआ नया शोध, अब सिर्फ जंगल में ही नहीं कमरे के अंदर भी पैदा कर सकते है गुच्छी

पर्वतीय क्षेत्र के लोग जंगलो में घूम घूमकर गुच्छी ढूंढने के लिए सारा सारा दिन भटकते है ।अब आएगा नया बदलाव आजीविका कमाने के खुलेंगे नए रास्ते । ऊंचाई वाले जंगलों में प्राकृतिक रूप से उगने वाली गुच्छी अब बंद कमरे में भी तैयार हो सकेगी। खुंब अनुसंधान निदेशालय (डीएमआर) की ओर से पिछले पांच वर्षों से किया जा रहा शोध सफल हो गया है। निदेशालय का इस वर्ष का यह दूसरा सफल शोध है। प्राकृतिक और कमरे में उगाई गई गुच्छी की गुणवत्ता भी समान है। वहीं अंतिम शोध…

Read More

देश में पहली बार एनोकी मशरूम तैयार, सफल रहा शोध कार्य, जानिए इसके विशेष फायदे

देश में पहली बार एनोकी मशरूम तैयार, सफल रहा शोध कार्य, जानिए इसके विशेष फायदे

हिमाचल प्रदेश के सोलन में स्थित खुंब अनुसंधान निदेशालय ने इस खास मशरूम को तैयार करने के शोध कार्य में सफलता हांसिल की है। चीन, नेपाल और पाकिस्तान के हिमालयी क्षेत्रों में प्राकृतिक रूप से उगने वाली एनोकी मशरूम अब देशभर में उगा सकेंगे। खुंब अनुसंधान निदेशालय (डीएमआर) ने इस मशरूम को तैयार करने में सफलता हासिल की है। इसे सफेद और गोल्डन रंग में तैयार किया गया है। यह गुच्छी मशरूम की एक प्रजाति है। इस मशरूम को तैयार करने के लिए खुंब अनुसंधान निदेशालय पिछले वर्ष से शोध…

Read More

भारत में पहली बार ऐसी मशरूम तैयार की जा रही है जो देगी चिकन-मटन का स्वाद

भारत में पहली बार ऐसी मशरूम तैयार की जा रही है जो देगी चिकन-मटन का स्वाद

मांसाहार से परहेज करने वाले शाकाहारी लोग चिकन-मटन का स्वाद मशरूम से ही ले सकेंगे, जिनके लिए जल्द ही बाजार में ऐसी मशरूम मिलेगी। केंद्रीय मशरूम अनुसंधान केंद्र सोलन के वैज्ञानिक देश की पहली ऐसी मशरूम के शोध कार्य में जुटे हैं, जो चिकन-मटन का स्वाद देगी। यह मशरूम मांसाहार न खाने वालों के लिए बेहतर विकल्प होगा। इस मशरूम को वेगनमीट का नाम दिया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इसमें चिकन-मटन से अधिक मात्रा में प्रोटीन होगा, जबकि फैट कम होगा। यह रंग और आकार में मटन की…

Read More

नौणी विवि सेब की स्कैब प्रतिरोधक किस्म पर कर रहा काम, साथ ही इसकी उप किस्म भी कर ली तैयार

नौणी विवि सेब की स्कैब प्रतिरोधक किस्म पर कर रहा काम, साथ ही इसकी उप किस्म भी कर ली तैयार

जर्मनी के जूलियस कुहन इंस्टीट्यूट (जेकेआई) ने सेब की स्कैब प्रतिरोधक किस्म ईजाद की है। यह किस्म स्कैब सहित अन्य फंगस रोगों के प्रति भी प्रतिरोधी है। अब हिमाचल प्रदेश के डॉ. वाईएस परमार बागवानी एवं वानिकी विश्वविद्यालय ने भी इस पर शोध शुरू कर दिया है। विवि ने इसकी एक उप किस्म तैयार कर ली है।  यह किस्म हिमाचल, कश्मीर और उत्तराखंड के बागवानों के लिए आशा की नई किरण बनी है। स्कैब सहित अन्य फंगस संक्रमण से सेब की फसल को बचाने के लिए बागवानों को फफूंदनाशकों का…

Read More

हिमोफिलस वैक्सीन को मिला ग्रीन टिक, बच्चों का निमोनिया-गठिया के गंभीर संक्रमण से करेगी बचाव

हिमोफिलस वैक्सीन को मिला ग्रीन टिक, बच्चों का  निमोनिया-गठिया के गंभीर संक्रमण से करेगी बचाव

बच्चों को बी-टाइप निमोनिया और सेप्टिक गठिया जैसे खतरनाक संक्रमण से बचाने के लिए आधुनिक वैक्सीन तैयार हो गई है। इस वैक्सीन को सेंट्रल ड्रग्स लैबोरेटरी (सीडीएल) कसौली से ग्रीन टिक भी मिल गया है। अब यह जल्द बाजार में आएगी। बैसिलस इन्फ्लूएंजा (हिमोफिलस) वैक्सीन के तीन बैच विश्व स्वास्थ्य संगठन से प्रमाणित लैब ने पास कर दिए हैं। अभी तक इस बीमारी से होने वाले नुकसान से बचने के लिए हिब वैक्सीन का टीका लगाया जाता था। अब इस वैक्सीन को आधुनिक रूप से तैयार कर इसे हिमोफिलस वैक्सीन…

Read More

प्रदेश सरकार औद्योगिक क्षेत्रों में आधारभूत ढांचे को सुदृढ़ करने पर विशेष ध्यान दे रही : सुक्खू

प्रदेश सरकार औद्योगिक क्षेत्रों में आधारभूत ढांचे को सुदृढ़ करने पर विशेष ध्यान दे रही : सुक्खू

बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू से भेंट की और उन्हें आपदा राहत कोष के लिए 2.02 करोड़ रुपये का चेक भेंट किया। मुख्यमंत्री ने इस पुनीत कार्य के लिए आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में नया निवेश आकर्षित करने तथा उद्यमियों को सुविधाएं प्रदान करने के लिए गंभीरतापूर्वक कार्य कर रही है। राज्य में स्थित औद्योगिक क्षेत्रों में आधारभूत संरचना के सुदृढ़ीकरण पर विशेष ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। विशेष तौर पर बद्दी क्षेत्र में रेलवे संपर्क सुविधा…

Read More