राजनीतिक प्रक्रिया से हो रहा लोगों का मोहभंगः सोनिया

नई दिल्‍ली VIRENDER KHAGTA
disillusionment among people for politicle process says sonia
जयपुर में आयोजित चिंतन शि‌‌विर के अंतिम दिन कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने पांच मुद्दों का एक्शन प्लान अपने कार्यकर्ताओं के सामने रखा। इनमें भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए नया कानून बनाना, डाइरेक्ट कैस ट्रांसफ‌र स्‍कीम और महिला आरक्षण बिल जैसे मुद्दे शामिल है।

सोनिया ने अपने भाषण में कहा कि इस चिंतन शिविर में उन्हें आत्ममंथन का मौका मिला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी गांधी, नेहरू और अंबेडकर जैसे नेताओं की राह पर आगे भी चलती रहेगी।

सोनिया गांधी दिल्ली गैंगरेप की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि सुरक्षा महिलाओं का मूलभूत अधिकार है। महिलाओं के खिलाफ अपराध को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इसके लिए सख्त कानून बनाने की कोशिश की जाएगी।

सोनिया ने देश में बढ़ रहे जनांदोलनों की ओर संकेत करते ह़ुए कहा कि जनता का राजनी‌तिक प्रक्रिया से मोहभंग हो रहा है। उन्होंने कहा क‌ि हमें युवाओं को रा‌जनीतिक प्रक्रिया में भरोसा दिलाना होगा।

कांग्रेस ने जारी किया ‘जयपुर घोषणा पत्र’
चिंतन शिविर में कांग्रेस ने 2014 चुनावों को लक्ष्‍य कर घोषणापत्र जारी किया। घोषणा पत्र में संप्रग सरकार की उपलब्धियों के बल पर 2014 के चुनाव में जनता के बीच आत्मविश्‍वास के साथ जाने और नेताओं की जवाबदेही तय करने का संकल्प जाहिर किया गया ।

पार्टी के दो दिन के चिंतन शिविर के मैराथन मंथन के बाद अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक के विचार के लिए पेश की गई 13 पृष्ठों की जयपुर घोषणा में पार्टी ने अपने रूठे हुए वर्गों को मनाने और खिसका हुआ जनाधर वापस लाने के लिए काम करने की भी प्रतिज्ञा की।

इसके लिए पार्टी ने महिलाओं और युवाओं पर विशेष ध्यान केंद्रित करने की बात कही। पार्टी ने कहा कि वह अपने जनाधर को मजबूत करने, अपने स्वाभाविक समर्थकों की पहचान करने तथा कांग्रेस से दूर हो गए वर्गों का विश्वास जीतने के लिए प्रतिबद्ध होगी।

पार्टी ने वैचारिक आधार पर ‘मिडिल ग्राउंड’ अपनाए रखने का दर्शन अपनाया और समाज को तोडने वाले दलों की पुरानी विचारधारा को खारिज किया। पार्टी ने कहा कि वह ध्रुवीकरण करने वालों के खिलाफ वैचारिक लडाई के लिए देश की सभी धर्मनिरपेक्ष एवं प्रगतिशील शक्तियों से एकजुट होने का आह्वान करती है।

Related posts