जहाज नहीं तो हेलीकाप्टर ही भेज दो!

कुल्लू। सात माह से बंद पड़ी हवाई सेवाएं भले ही बहाल नहीं हो पाई हों लेकिन अब भुंतर हवाई अड्डे के लिए हेलीकाप्टर सेवा शुरू करने की कवायद शुरू हो चुकी है। इस योजना को लेकर बाकायदा प्रपोजल बनाकर उड्डयन मंत्रालय और प्रदेश सरकार को भेजा है। मंजूरी मिलती है तो कुल्लू-मनाली आने वाले हाई प्रोफाइल यात्रियों को जहां सुविधा होगी वहीं पर्यटन कारोबार को भी राहत मिलेगी।
फिलहाल भुंतर हवाई अड्डा जहाजों की आवाजाही बंद होने से सूना पड़ा है। नई कवायद के तहत अड्डे के गुलजार होने की उम्मीद है। लेकिन सारा दारोमदार केंद्र और प्रदेश सरकार पर टिका है।
दरअसल, भुंतर हवाई अड्डे पर लंबे समय से उड़ानें न होने के कारण हाई प्रोफाइल टूरिस्ट कुल्लू-मनाली का रुख नहीं कर रहे। इससे कुल्लू-मनाली के पर्यटन उद्योग के साथ ही यहां के हथकरघा, कुल्लवी शॉल और अन्य कारोबार को भी गहरा धक्का लगा है।
हालांकि हवाई सेवा शुरू करने को लेकर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह सहित कई मंत्री दिल्ली जाकर प्रधानमंत्री, पर्यटन मंत्री तथा उड्डयन मंत्री के समक्ष मुद्दा उठा चुके हैं। लेकिन अभी तक ठोस परिणाम नहीं निकल सका। उड़ानों को शुरू करने के लिए भुंतर एयरपोर्ट अथॉरिटी भी कई बार संबंधित मंत्रालय से पत्राचार कर चुकी है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने बंद पड़ी हवाई सेवा के बदले अब हेलीकाप्टर सेवा शुरू करने का प्रपोजल केंद्र और प्रदेश सरकार को भेजा है। इसकी पुष्टि यहां तैनात भुंतर एयरपोर्ट अथॉरिटी के निदेशक रमेश शर्मा ने की है। कहा कि बंद पड़ी हवाई सेवाओं को शुरू करने के लिए अथारिटी अपने स्तर पर प्रयासरत है। कहा कि जब तक हवाई सेवा शुरू नहीं होती है, तब तक हेलीकाप्टर सेवा शुरू करने की मांग की है। इसे लेकर केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय और प्रदेश सरकार को प्रपोजल भेजा है। हवाई उड़ानों के बंद होने से पर्यटन को नुकसान पहुंचा है। हाई प्रोफाइल सैलानी हवाई सेवा को प्राथमिकता देते हैं।

Related posts