कहीं डूब न जाए करोड़ों का कारोबार

कुल्लू। विंटर सीजन में भारी घाटा उठाने के बाद अब कारोबारियों को समर सीजन से उम्मीद है। लेकिन भुंतर एयर पोर्ट पर हवाई सेवाएं शुरू न होने से पर्यटन व्यवसायी चिंतित हैं। भुंतर में करीब आठ माह से हवाई सेवाएं बंद पड़ी हैं। पर्यटन कारोबार से हजारों लोग सीधे रूप से जुड़े हैं।
विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी मनाली में हवाई सेवाएं बंद रहने से करीब 30 फीसदी पर्यटन कारोबार प्रभावित हुआ है। मनाली के पर्यटन व्यवसायियों का कहना है कि भुंतर एयरपोर्ट पर जुलाई माह से हवाई सेवाएं बंद पड़ी हैं। इस कारण उनका कारोबार बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। हवाई सेवाएं न होने से फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोग और हेली स्किंग करने वाले पर्यटक कम मात्रा में
कुल्लू-मनाली पहुंच रहे हैं। व्यवसायियों का कहना है कि यदि शीघ्र हवाई सेवाएं शुरू नहीं हुई तो समर सीजन भी पिट जाएगा।
होटल एसोसिएशन मनाली के अध्यक्ष अनूप ठाकुर ने बताया कि अभी तक उन्हें हवाई सेवाएं शुरू करने को लेकर केवल आश्वासन ही मिले हैं। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने भी मनाली में हवाई सेवाएं शुरू करवाने का आश्वासन दिया था लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि प्रदेश को आने वाले एयर इंडिया के चारों जहाज नार्थ ईस्ट के लिए लगा दिए हैं, वहां से कम से कम दो जहाज प्रदेश के लिए शुरू किए जाने चाहिए।
होटल एसोसिएशन का प्रतिनिधिमंडल शीघ्र ही इस मसले को लेकर दिल्ली में केंद्रीय मंत्री से मिलेगा। होटल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष गजेंद्र ठाकुर का कहना है कि हवाई सेवाएं बंद होने से पर्यटन नगरी मनाली का कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है। यदि शीघ्र सेवाएं शुरू न हुई तो समर सीजन भी पिट जाएगा।
टैक्सी यूनियन मनाली के अध्यक्ष पूर्ण चंद ठाकुर ने कहा कि हवाई सेवा बंद होने से टैक्सी चालकों का कारोबार भी प्रभावित हुआ है। टैक्सी यूनियन भुंतर के अध्यक्ष लेख राज ठाकुर का कहना है कि आठ माह से हवाई सेवाएं बंद होने के कारण करीब 300 टैक्सी चालकों का व्यवसाय प्रभावित हुआ है। भुंतर टैक्सी यूनियन का पूरा काम भुंतर एयर पोर्ट पर निर्भर है। इन दिनों टैक्सी चालकों की हालत खराब हो गई है।

Related posts