311 लोगों को मौसम खुलने का इंतजार

उदयपुर (कुल्लू)। लाहौल घाटी में हेलीकाप्टर के इंतजार में बैठे करीब 311 लोगों को शनिवार को भी मौसम खराब होने के कारण राहत नहीं मिल पाई। यदि मौसम खराब रहा तो रविवार को भी उड़ाने होने की संभावना नहीं है। जानकारी के अनुसार लाहौल घाटी के लिए 13 फरवरी के बाद कोई उड़ानें नहीं हुई हैं और 14 फरवरी को काजा के लिए उड़ान हुई थी।
अभी भी भारी बर्फबारी के बीच फंसे लाहौल के करीब 311 लोग हेलीकाप्टर के इंतजार में हैं। इसमें 175 जरूरत मंद लोगों, 97 सरकारी कर्मचारी, दो बीमार मरीज और 35 स्कूली बच्चों समेत दो अन्य लोगों ने घाटी से बाहर निकलने के लिए आवेदन कर रखा है।
बारिंग और स्तींगरी हेलीपेड में भी दो मरीजाें को हेलीकाप्टर का इंतजार है। जिला उड़ान समीति के मुताबिक उदयपुर से 20 लोगों ने आवेदन कर रखे हैं। इसमें 12 कर्मचारी, एक गैर जनजातीय और 3 बच्चे शामिल है। तिंदी में 3 लोग, 3 सरकारी कर्मचारी, तिंगरेट में 4 लोग, 3 कर्मचारी और एक बच्चा, बारिंग में 14 लोगाें सहित दो कर्मचारी और एक मरीज ने आवेदन किया है।
रावा में 13 स्थानीय लोग, दो कर्मचारी, स्तींगरी में 35 लोग, 57 कर्मचारियों के साथ 10 बच्चे और एक मरीज घाटी से बाहर निकलना चाहते हैं। जिस्पा में 17 लोग, 3 कर्मचारी और 2 बच्चे, सिस्सू में 42 लोग 7 कर्मचारी और 16 छात्र, तांदी में 26 लोग, 6 कर्मचारी और 3 छात्रों ने आवेदन कर रखे हैं। डीसी वीर सिंह ठाकुर ने बताया कि मरीजों और जरूरतमंदों लोगों को प्राथमिकता के आधार पर सीट दी जा रही है। बताया कि 35 के करीब स्कूली बच्चे जिन्होंने घाटी से बाहर जाने के लिए आवेदन किया है, उनको मार्च से पहले घाटी से बाहर पहुंचाया जाएगा। मौसम साफ होते ही प्राथमिकता के आधार पर मरीजों और स्कूली बच्चोें को घाटी से बाहर निकाला जाएगा।

Related posts