हास्य नाटिका ने दर्शकों को खूब गुदगुदाया

शिमला। बीएससी मेडिकल टेक्नोलोजी स्टूडेंट्स के वार्षिक समारोह ‘इनफ्यूज़न-2013’ में हास्य नाटिका (चेतराम) ने दर्शकों को खूब गुदगुदाया। गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरूआत हुई। इसमें देवी श्री गणेशा.. देवा श्री गणेशा के बोल पर छात्रों ने बेहतरीन प्रस्तुती दी। पहाड़ी नाटियों और फिल्मी धुनों पर छात्रों ने मनमोहक प्रस्तुति दी। सर से चुन्नी गई सरक सरक … किसे पूछ खुशी के पल कहां ढूंढू.. गीतों पर सभागार में बैठे दर्शक झूम उठे।
सबसे अधिक दर्शकों को हास्य नाटिका ने लोट पोट किया। इस नाटिका में चेतराम नाम के एक बूढ़े शख्स की कुंभ के मेले में पत्नी चंद्रमुखी कहीं खो गई। जब वह उसे ढूंढ रहा था तो वह कुछ युवतियों के जाल में फंस कर रह गया और अपनी पत्नी को भूल गया लेकिन जल्दी ही उसे अपनी गलती का एहसास हुआ और अपनी चंद्रमुखी को ढूंढने लग गया। कार्यक्रम के शुरूआत में निदेशक मेडिकल शिक्षा डा. जयश्री शर्मा ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। स्टाफ सलाहकार बीएससी नर्सिंग एवं विकिरण सुरक्षा अधिकारी विनोद चौहान ने मुख्यमंत्री का बीपीएल के बीएससी मेडिकल टेक्नोलोजी स्टूडेंट्स को नि:शुल्क शिक्षा और प्रत्येक विद्यार्थियों को 3000 रुपये प्रति माह स्टाइफंड की सुविधा प्रदान करने के लिए आभार व्यक्त किया। इस तरह के कार्यक्रम में पहली मर्तबा मुख्यमंत्री आए हैं। छात्रों ने मांग रखी कि उन्हें टयूटर उपलब्ध करवाए जाए।
इस मौके पर विधायक अजय महाजन और संजय रतन, पूर्व उप महापौर हरीश जनार्था, स्वास्थ्य सचिव ए.आर. रिज़वी, आईजीएमसी के प्रधानाचार्य डा. एस.एस. कौशल, डेंटल कालेज के प्रधानाचार्य डा. आर.पी. लूथरा, वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डा. रमेश चंद, आईजीएमसी कर्मचारी संघ के अध्यक्ष एस.एस. जोगटा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Related posts