सेवानिवृत्त कर्मियों के लाखाें के बिल पेंडिंग

मंडी। लोक निर्माण विभाग मुख्य अभियंता मंडी जोन के सेवानिवृत्त कर्मचारियाें को उनके चिकित्सा बिलाें का भुगतान नहीं हो पाया है। मंडी जोन के अंतर्गत सेवानिवृत्त कर्मचारियाें को करीब पचास लाख के चिकित्सा बिल की एक बड़ी राशि विभाग को देय शेष है। मेडिकल बिल लंबित होने से जहां सेवानिवृत्त कर्मचारियों को परेशानी से जूझना पड़ रहा है, वहीं गंभीर रोगियों को इलाज करवाने में आर्थिक तंगी झेलनी पड़ रही है। मंडी में भी चिकित्सा बिलों की अदायगी तेरह से चौदह लाख रुपये सेवानिवृत्त कर्मचारियों को करनी शेष है। मंडी जोन में मंडी सहित कुल्लू तथा लाहौल स्पीति जिले के सेवानिवृत्त कर्मचारी भी शामिल हैं।
हिप्र लोनिवि सेवानिवृत्त कर्मचारी संघ मंडी जोन के प्रधान रोशन लाल शर्मा तथा महासचिव आरपी शर्मा ने चिकित्सा बिलों का भुगतान न करने पर कड़ी आपत्ति जाहिर की है। संघ के प्रधान रोशन लाल शर्मा का कहना है कि मुख्य अभियंता सेंट्रल जोन मंडी के कार्यालय में सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लाखाें के चिकित्सा बिल देय होने से गंभीर रोगियों के लिए अपना इलाज करवाना मुश्किल हो गया है, जबकि मेडिकल बिल अदायगी को ऐसे कर्मचारी भी शामिल ह, जिनको दिल की बीमारी सहित अन्य कई गंभीर बीमारियां जकड़े हुए है। संघ ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से गुहार लगाई है कि मुख्य अभियंता लोनिवि मंडी जोन को पचास लाख का बजट प्रावधान करवाकर शीघ्र प्रेषित करें, जिससे सेवानिवृत्त कर्मचारियाें के मेडिकल बिलों का भुगतान किया जा सके ताकि सेवानिवृत्त बीमार कर्मचारियों को इलाज के लिए भटकना न पड़े। इधर, इस बारे में लोनिवि मुख्य अभियंता कार्यालय मंडी के रजिस्ट्रार लाल सिंह चावला ने बताया कि बजट की कमी के कारण अदायगी नहीं हो पाई है। बजट का प्रावधान होने पर अदायगी कर दी जाएगी।

Related posts