क्लर्कों के स्वीकृत पद 19, काम करने वाले 3

शिमला। उप निदेशक एलीमेंटरी कार्यालय कर्मचारियों की किल्लत से जूझ रहा है। इस कार्यालय में कहने को तो क्लर्कों के 19 पद स्वीकृत हैं पर काम करने वाले महज 3 ही हैं। वरिष्ठ सहायकों के स्वीकृत 14 में से 7 पद रिक्त हैं। अधीक्षक ग्रेड-1 का पद लंबे समय से खाली है। जिला स्तर के उप निदेशक कार्यालय पर 2,261 प्राइमरी और माध्यमिक स्तर के स्कूलों में सरकारी योजनाओं को लागू करने और संचालन का जिम्मा रहता है। जिले में करीब 318 निजी स्कूलों की संबद्धता के साथ ही समय समय पर इनके लिए जारी होने वाले आदेशों को लागू कराने की जिम्मेदारी भी इसी दफ्तर की है। यही नहीं, अप्रैल से शिक्षा का अधिकार एक्ट (आरटीई) लागू होने जा रहा है। ऐसे में कैसे उम्मीद करें कि सब कुछ ठीकठाक चलेगा।
खुद उप निदेशक एलीमेंटरी टीसी वर्मा मान रहे हैं कि क्लर्क जैसे जरूरी पद खाली हैं। नाममात्र स्टाफ से साथ समय सीमा के भीतर काम निपटाना मुश्किल है। उन्होंने माना कि एक्ट लागू होने पर कार्य और बढ़ेगा। उन्होंने बताया कि मामला विभाग के ध्यान में लाया जाता रहा है। उम्मीद है कि जल्द ही इस समस्या का स्थायी समाधान हो जाएगा।
—————–
यह जिम्मेदारी है इस दफ्तर की
तीन हजार स्कूलों में प्रवेश प्रक्रिया, उसमें मिड डे मील योजना संचालन, छात्रवृत्ति योजना, पंद्रह हजार कर्मियों की नियुक्ति, तबादले, उनकी एसीआर, निजी स्कूलों का निरीक्षण और विभाग के रूटीन कार्य, सर्व शिक्षा अभियान, अन्य योजनाओं का हिसाब-किताब रखना इसी दफ्तर की जिम्मेदारी है।

Related posts