एचआरटीसी के 80 रूट फेल

शिमला। बर्फबारी के कारण जिला शिमला में परिवहन व्यवस्था लड़खड़ा गई। ऊपरी शिमला का राजधानी से पूरी तरह संपर्क कट गया है। कुफरी, नारकंडा, खड़ापत्थर और खिड़की से लगातार तीन दिन बाद भी बसों की आवाजाही ठप है। बर्फबारी से रास्ते बंद होने के कारण बुधवार को एचआरटीसी के 80 रूटों पर बसें रवाना नहीं हो सकीं। इस कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।
राजधानी शिमला सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगातार तीसरे दिन भी बर्फबारी का क्रम जारी रहा। मुख्य मार्गों सहित संपर्क मार्ग ठप होने के कारण निगम के करीब 80 रूटों पर बसें रवाना नहीं हो सकी। तारादेवी डिपो के सर्वाधिक 39 रूट फेल हुए। शिमला से कुल्लू व सोलन रवाना होने वाली दो बसें भी नहीं जा सकी। कुफरी, नारकंडा, खड़ापत्थर और खिड़की में सड़क बंद होने के कारण समूचा ऊपरी शिमला राजधानी से कट गया है। कुफरी से आगे राष्ट्रीय राजमार्ग-22 बंद होने के कारण बुधवार को शिमला से ठियोग की ओर भी बसें रवाना नहीं हो पाईं। बर्फबारी के कारण ठियोग, कोटखाई, रामपुर, रोहड़ू और चौपाल में लोकल रूटों पर भी बसों की आवाजाही प्रभावित हुई है।
एचआरटीसी के ट्रैफिक मैनेजर अनिल शर्मा ने बताया कि बर्फबारी के कारण कुफरी, नारकंडा, खड़ापत्थर व खिड़की में सड़क बंद हो गई है। सड़कें बंद होने के कारण एचआरटीसी के करीब 80 रूट फेल हो गए हैं।

मशोबरा-बसंतपुर सड़क बंद, रामपुर को वाया धामी भेजी बसें
बर्फबारी के कारण बुधवार को मशोबरा-बसंतपुर सड़क बंद हो गई। इसके बाद रामपुर के लिए बसें वाया धामी रवाना की गईं। सुबह करीब 11 बजे के बाद मशोबरा-बसंतपुर सड़क पर बसों की आवाजाही ठप हो गई।

घणाहट्टी-टुटू मार्ग पर फिसलन
बर्फबारी के कारण बुधवार को घणाहट्टी-टूटु मार्ग पर भी वाहनों की आवाजाही प्रभावित रही। सुबह करीब साढ़े नौ से ग्यारह बजे तक सड़क पर फिसलन के कारण बार-बार जाम की स्थिति बनती रही।

डिपो रूट फेल
तारादेवी 39
रोहड़ू 14
रामपुर 03
शिमला ग्रामीण 16
रिकांगपिओ 06
सोलन 01
कुल्लू 01

Related posts