सोलन पुलिस की सर्तकता हाशिए पर

सोलन। जिला सोलन की स्मार्ट पुलिस का हाल। यहां हत्या जैसे संगीन आरोपों से घिरे शातिर को बड़े अधिकारियों को सूचित किए बगैर हवालात से बाहर निकाला दिया जाता है। मौके की फिराक में बैठा शातिर थाना परिसर से भागने में कामयाब हो जाता है। अपनी साख को बचाने की खातिर पुलिस पूरा जोर लगाकर बड़ी मुश्किल से बाद आरोपी को धर लेती है। बाद में ड्यूटी पर तैनात कांस्टेबल को निलंबित कर दिया जाता है।
सोलन जिला में तीन हत्याकांड के आरोपी शातिरों में से एक के साथ जिला सोलन की स्मार्ट पुलिस ने कुछ ऐसी ही कोताही बरती। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक धर्मपुर के समीप एक के बाद एक टैक्सी चालकों को मारकर वाहनों को नेपाल बेचने वाले गिरोह के एक आरोपी बलबीर को पुलिस ने बड़ी मशक्कत से पकड़ा। आरोपी को हवालात में बंद किया। पुलिस में दर्ज एफआईआर में खुलासा किया गया है कि आरक्षी मोहन सिंह थाना प्रभारी और एमएचसी धर्मपुर को बिना बताए हवालात की चाबी लेकर आरोपी को अकेला शौचालय के लिए ऊपरी मंजिल ले गया। बस मौके की ताक में बैठे शातिर ने तीसरी मंजिल से छलांग लगाई और भाग खड़ा हुआ। पुलिस ने तुरंत धरपकड़ शुरू की। नाकाबंदी की गई। शातिर को सनवारा में शुक्रवार को रात करीब आठ बजे दबोच लिया गया। पुलिस अधीक्षक पीके ठाकुर ने बताया कि आरक्षी मोहन सिंह और आरोपी बलबीर पर संबंधित धाराओं के तहत मुकदमा कायम किया है।

सवालों के घेरे में पुलिस

सवाल 01 : हवालात में ही शौचालय मौजूद था। आखिर ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मी को क्या जरूरत पड़ी की शातिर हत्यारोपी को थाने की ऊपरी मंजिल में शौचालय के लिए ले जाया गया।

सवाल 02: हवालात खोलने से पहले अन्य किसी बड़े अधिकारी या एचएचओ से अनुमति क्यों नहीं मांगी गई। बिना अनुमति हवालात का दरवाजा आखिर क्यों खोला? इसके पीछे क्या मंशा रही होगी?

सवाल 03 : क्या चाबी निकालते और अकेले हत्यारोपी को ऊपरी मंजिल में ले जाते हुए किसी ने नहीं देखा? क्या घटना के वक्त थाना में मात्र आरक्षी ही मौजूद था? थाना में अन्य पुलिस का स्टाफ कहां पर था।

प्रशंसनीय ढंग से हल की कोताही
सोलन। कुछ कोताही करने वाले हैं और कुछ उस कोताही को प्रशंसनीय ढंग से ठीक करने वाले भी हैं। अपनी सूझबूझ से तीन हत्याओं के मास्टरमाइंड और गिरोह का पर्दाफाश करने में अहम रोल निभाने वाले युवा डीएसपी धर्मपुर शिव शर्मा ने टीम के साथ मिलकर आरोपी धर दबोचा। सूचना मिलते ही सुनियोजित तरीके से जंगलों और हाइवे पर पुलिस ने जाल बिछाया और अंत में शातिर आरोपी धरा गया। डीएसपी ने बताया कि आरक्षी को सस्पेंड कर दिया गया है।

Related posts