फीस वृद्धि से भड़के ‘भावी’ इंजीनियर

बिलासपुर। जिले के एक निजी इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी इंस्टीट्यूट के तृतीय व चतुर्थ वर्ष के विद्यार्थियों ने फीस की दरों में की गई वृद्धि को लेकर प्रबंधन के खिलाफ मोरचा खोल दिया है। इसके विरोध में शुक्रवार को विद्यार्थियों ने जमकर नारेबाजी की। विवाद के चलते संस्थान में शैक्षणिक कार्य भी प्रभावित हुआ।
इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी इंस्टीट्यूट के तृतीय व चतुर्थ वर्ष के छात्र फीस में की गई वृद्धि से भड़क उठे हैं। उनका कहना है कि वर्ष 2009 में दाखिला लेते समय पूरे कोर्स के लिए प्रतिवर्ष एक समान फीस बताई गई थी। दो साल बाद वर्ष 2011 में इसमें हजारों रुपये की वृद्धि कर दी गई। संस्थान में दाखिला लेने वाले नए विद्यार्थियों के साथ ही पहले से अध्ययनरत लगभग 400 छात्रों पर भी इसे लागू कर दिया गया, जो सरासर गलत है। इससे उनके परिजनों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। अपनी इस मनमानी से संस्थान ने लाखों रुपए बटोर लिए हैं। उनका आरोप है कि आपत्ति जताने पर उस ओर से दबाव बनाने के लिए तरह-तरह की धमकियां दी जा रही हैं।
शुक्रवार को तृतीय व चतुर्थ वर्ष के विद्यार्थियों ने संस्थान प्रबंधन के खिलाफ मोरचा खोलते हुए जमकर नारेबाजी भी की। सूत्रों की मानें तो गत वीरवार को छात्र तोड़फोड़ करने पर भी उतारू हो गए थे। ऐसे में विवाद जल्द न सुलझने की स्थिति में विद्यार्थियों द्वारा उग्र प्रदर्शन शुरू करने की आशंका से भी इंकार नहीं किया जा रहा। संस्थान के जनसंपर्क अधिकारी मनोज गौतम ने कहा कि फीस स्ट्रक्चर सरकार द्वारा निर्धारित किया जाता है। यह मामला अदालत में विचाराधीन है। लिहाजा तृतीय व चतुर्थ वर्ष के छात्रों से संस्थान द्वारा फिलहाल कोई फीस नहीं ली जा रही है। विद्यार्थियों को इस मसले को बेवजह तूल देने के बजाए संयम से काम लेना चाहिए।

Related posts