हिमखंड वाले क्षेत्रों से हटाए जाएंगे लोग

सांगला (किन्नौर)। 17 और 18 जनवरी को भारी बर्फबारी के बाद हिमखंड की चपेट में आने से हुई लोगों की मौत के बाद किन्नौर जिला प्रशासन ने कड़ा सबक लिया है। सोमवार से हो रही बर्फबारी के बाद किन्नौर प्रशासन ने जहां-जहां हिमखंड आने की संभावना है, उन क्षेत्रों के लोगों को दूसरे क्षेत्रों में शिफ्ट करने का निर्णय लिया गया है। जिले में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। जिला प्रशासन ने क्षेत्र के लोगों को निर्देश दिए हैं कि अब बिना किसी काम के अपने घर से बाहर न आएं। हालांकि, प्रशासन ने दावा किया है कि किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। जिला प्रशासन का कहना है कि सरकारी स्टोर में राशन, रसोई गैस सहित अन्य जरूरी सामान मौजूद है।
उपायुक्त किन्नौर कै. जेएम पठानिया ने बताया कि पिछली बार भी हिमखंड की चपेट में पांच लोगों की मौत हुई थी। कुछ लोग घायल भी हुए थे, लेकिन फिर से इस तरह की कोई घटना न हो इसके लिए प्रशासन ने जहां-जहां हिमखंड आने की संभावना है, उन क्षेत्रों से लोगों को दूसरे स्थानों पर भेजने का निर्णय लिया है।
इधर, सोमवार को सुबह जिले के टापरी से पथ परिवहन रिकांगपिओ डिपो की हमीरपुर, काफ नु तथा चंडीगढ़ के लिए टापरी से बस भेजी गई है। इसके अलावा सोमवार को किसी भी रूट पर बसें नहीं चल पाई हैं। जबकि, निगम की रविवार को रिकांगपिओ से अपने रूट पर निकली बसें पूह में एक, स्पीलो में दो और इसी तरह समदु में एक बस अब तक बर्फ में फंसी हुई हैं। रिकांगपिओ डिपो अड्डा प्रभारी वीरचंद राय ने बताया कि सोमवार को सुबह दस बजे के बाद किसी भी रूट पर बसें नहीं चल पाई हैं।

Related posts