हिमाचल के कई क्षेत्रो में पटवारी कर रहे है प्रॉपर्टी डीलर का काम, मुख्यमंत्री कार्यालय में पहुंची शिकायत

हिमाचल के कई क्षेत्रो में पटवारी कर रहे है प्रॉपर्टी डीलर का काम, मुख्यमंत्री कार्यालय में पहुंची शिकायत

शिमला
प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में कौन सी जमीन बिकाऊ है और कौन सी नहीं है। इसका पता पटवारियों को रहता है। इनमें कुछ पटवारी तो अब प्रॉपर्टी डीलिंग के काम में लग गए हैं। प्रॉपर्टी डीलिंग का काम ऐसा होता है, जिसमें अच्छा कमीशन भी बन जाता है। आरोप है कि कुछ पटवारी खुद ही इन संपत्तियों का सौदा करने में जुट गए हैं।

हिमाचल प्रदेश में कई पटवारी प्रॉपर्टी डीलर बन गए हैं। एक मामला मुख्यमंत्री कार्यालय के ध्यान में भी आया है। इस पर संज्ञान लिया गया है। सीएम कार्यालय को मिली एक शिकायत पर राजस्व विभाग के अधिकारियों को छानबीन के निर्देश दिए गए हैं।

मामला गंभीर पाया गया तो विजिलेंस जांच भी हो सकती है। इसमें आय से अधिक संपत्ति को लेकर भी तफ्तीश की जा सकती है। इस शिकायत में कई पटवारियों पर अपना काम करने के बजाय प्रॉपर्टी डीलिंग में व्यस्त रहने के आरोप लगे हैं।

प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में कौन सी जमीन बिकाऊ है और कौन सी नहीं है। इसका पता पटवारियों को रहता है। इनमें कुछ पटवारी तो अब प्रॉपर्टी डीलिंग के काम में लग गए हैं। प्रॉपर्टी डीलिंग का काम ऐसा होता है, जिसमें अच्छा कमीशन भी बन जाता है।

आरोप है कि कुछ पटवारी खुद ही इन संपत्तियों का सौदा करने में जुट गए हैं। यही नहीं, धारा-118 की एक अनुमति में भी रुचि लेने लगे हैं, जिससे बाहर के लोगों को जमीन बेची जा सके। ऐसा ही एक मामला इन दिनों चर्चा में भी है। ऐसी तमाम शिकायतों के आने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय सख्त हो गया है।

इस कार्यालय के एक अधिकारी ने राजस्व अधिकारियों को ऐसे मामलों की छानबीन करने को कहा है। पटवारियों को जमीन की रजिस्ट्री करने और अन्य कार्यों का भी ठीक से पता होता है। इसलिए भी जमीन खरीदने वाले लोग खुद कुछ पटवारियों से संपर्क करने लगे हैं।

Related posts