स्वारघाट बस स्टैंड के निर्माण पर रोक

बिलासपुर। स्वारघाट बस अड्डे के लिए लोगों का इंतजार और लंबा खिंच सकता है। तकरीबन एक करोड़ रुपये के प्रस्तावित इस बस अड्डे के निर्माण में और देरी हो सकती है। बस अड्डा प्रबंधन ने बस अड्डा निर्माण पर रोक लगा दी है। बस स्टैंड मैनेजमेंट एवं डेवलपमेंट अथारिटी ने इस बारे में लोनिवि को पत्र जारी करते हुए कार्य रोकने के आदेश दिए हैं। बस अड्डे का निर्माण कार्य रुकने से जन सुविधा से जुड़े इस कार्य पर विराम लग गया है, जिससे इलाके के लोगों में मायूसी है। अथारिटी के इस कदम को राजनीतिक चश्मे से जोड़कर देखा जा रहा है।
बस स्टैंड मैनेजमेंट एवं डेवलपमेंट अथारिटी हमीरपुर की ओर जारी सात फरवरी को लोनिवि के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर को भेजे पत्र संख्या एचओ, बीएसएम एंड डीए (135) 2004 बीएस में इस काम को रोकने के आदेश हुए हैं। हालांकि, बस अड्डा निर्माण को रोकने का कोई कारण पत्र में नहीं बताया गया है। इतना जरूर लिखा है कि 31 जनवरी को हुुई बोर्ड आफ डायरेक्टर की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। लिहाजा, आगामी आदेश तक कार्य को रोक दिया जाए। स्वारघाट बस अड्डे के निर्माण पर तकरीबन एक करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं। इसके लिए लगभग 37 लाख रुपये भी पूर्व भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान जारी हुए हैं। इसके बाद दो बार टेंडर हुए। एक बार सिंगल टेंडर होने के कारण उसे रद करना पड़ा। दूसरी बार टेंडर हुए। कार्य शुरू होने वाला था, लेकिन अब रोक लगने से इलाके के लोगों की चिंताएं बढ़ गई है। बस अड्डा न होने के कारण यहां लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जहां-तहां बसें खड़ी होने से ट्रैफिक जाम की समस्या आम हो गई है। लोनिवि के अधिशासी अभियंता सीएल गुप्ता ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि बस स्टैंड मैनेजमेंट की ओर से जारी पत्र के अनुसार कार्य रोकने के लिए कहा गया है। उधर, नयनादेवी क्षेत्र के विधायक रणधीर शर्मा ने इसे राजनीतिक षड्यंत्र करार दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस भाजपा सरकार के समय हुए कार्य को रोकने का कार्य कर रही है, जो गलत है। कुछ नया किया जाए तो वह बेहतर होगा। भाजपा इसे सहन नहीं करेगी। रवैया नहीं बदला तो जन आंदोलन छेड़ा जाएगा।

Related posts