सुरक्षा बलों की पकड़ से भागे आबादी ने ही रची पूरी साजिश, अब आईबी खंगाल रही नेटवर्क

सुरक्षा बलों की पकड़ से भागे आबादी ने ही रची पूरी साजिश, अब आईबी खंगाल रही नेटवर्क

जालंधर (पंजाब)
पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारों पर ही भारतीय सेना के दो जवानों को जासूस बनाने की साजिश रची गई थी और इसका पूरा तानाबाना आबादी नामक पाकिस्तानी तस्कर ने रचा था। आबादी इन दिनों पाक में बैठकर अपने बेटे सिकंदर के साथ मिलकर जहां तस्करी का धंधा कर रहा है वहीं पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ मिलकर भारत में जासूसी का नेटवर्क फैला रहा है। आर्मी इंटेलिजेंस व आईबी की टीमों ने आबादी और सिकंदर के नेटवर्क को खंगालना शुरू कर दिया है। 

हाल ही में जालंधर देहात पुलिस ने भारतीय सेना के दो जवानों हरप्रीत सिंह और गुरभेज सिंह को गिरफ्तार किया है, जो पाक के लिए जासूसी करते थे। दोनों ने भारतीय सेना के करीब 900 दस्तावेजों को पाक पहुंचा दिया, जिसमें से 800 दस्तावेज काफी संवेदनशील हैं। आर्मी की खुफिया जांच टीम को पता चला है कि पाकिस्तान में बैठा आबादी और उसका बेटा सिकंदर ही तस्करी व जासूसी के नेटवर्क को आगे बढ़ा रहे थे। 

अमृतसर अस्पताल से भागा था आबादी
आबादी को 2003 में पाक सीमा के पास से सुरक्षा बलों ने काबू किया था। वह बीमारी का बहाना बनाकर अमृतसर अस्पताल में दाखिल हुआ था, जहां से सुरक्षा बलों को चकमा देकर निकल गया और बाद में पाकिस्तान पहुंच गया। एजेंसियों को आबादी व सिकंदर के मोबाइल नंबर मिल गए हैं। दरअसल, सिकंदर व आबादी तस्कर रणवीर सिंह के साथ लगातार संपर्क में थे। रणवीर सिंह आगे सेना के जवान हरप्रीत सिंह और गुरभेज सिंह के साथ साठगांठ कर रहा था।

सेना की खुफिया एजेंसियों को मोबाइल से काफी चैट रिकवर हुई है, जिससे दोनों जवानों की चल रही बातचीत के अलावा एप द्वारा भेजे गए दस्तावेज भी मिल गए हैं। इन मोबाइलों को खंगालने पर ही पता चला कि आबादी व सिकंदर जवानों को काफी लालच दे रहे थे और अधिक जानकारियां जवानों से मांग रहे थे।

स्थानीय देहात पुलिस व आर्मी इंटेलिजेंस सर्विस की टीमें अब आबादी का पूरा ब्यौरा खंगाल रही है, वह कब सीमा से गिरफ्तार हुआ था और उसका भारत आने का क्या मकसद था? इसके अलावा उसके भारत में कौन कौन से तस्करों से संपर्क हैं। ऐसी आशंका है कि आबादी व सिकंदर ने जम्मू कश्मीर के अलावा पंजाब के सीमावर्ती इलाकों में काफी लोगों को अपने जाल में फंसा रखा है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय व आईबी ने पूरी रिपोर्ट ली
सेना के जवानों द्वारा 900 दस्तावेजों को पाकिस्तान भेजने की संवेदनशील घटना के बाद गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय व आईबी पूरी तरह से हरकत में आ गई है। जहां पंजाब के उच्चाधिकारियों से इसकी पूरी जानकारी हासिल कर रिपोर्ट ली वहीं टीमों ने जालंधर में डेरा डाल लिया है। वहीं सेना के जवानों से लगातार पूछताछ की जा रही है।

Related posts