सिद्धू की मांग- सीएम चेहरे के साथ चुनाव लड़े कांग्रेस, जाखड़ की दो टूक-ऐसा कभी नहीं हुआ 

सिद्धू की मांग- सीएम चेहरे के साथ चुनाव लड़े कांग्रेस, जाखड़ की दो टूक-ऐसा कभी नहीं हुआ 

चंडीगढ़
पंजाब कांग्रेस में कलह थमती नजर नहीं आ रही। हाईकमान के 2022 के विधानसभा चुनाव में बिना सीएम चेहरे के उतरने के फैसले पर विवाद बढ़ गया है। बुधवार को पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने मांग की थी कि विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी को अपने मुख्यमंत्री चेहरे का एलान करना चाहिए। इसके विपरीत कांग्रेस की प्रचार कमेटी के चेयरमैन सुनील जाखड़ ने इससे साफ इनकार किया है। प्रदेश कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ ने कहा कि 2017 विधानसभा चुनाव को छोड़कर कांग्रेस कभी भी सीएम चेहरे के साथ चुनाव में नहीं उतरी। उन्होंने कहा कि 2017 का चुनाव एक अपवाद था जब ये जाहिर था कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ही मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं।  
सिद्धू ने कहा था-बरात से पहले दूल्हे का एलान होना ही चाहिए
सिद्धू ने बुधवार को कहा था कि बरात से पहले ‘दूल्हे’ का एलान होना चाहिए। कांग्रेस के लिए भी जरूरी है कि मुख्यमंत्री चेहरे का एलान करके ही पार्टी विधानसभा चुनाव में उतरे। सिद्धू ने कहा कि पंजाब के लोग जानना चाहते हैं कि पंजाब को ‘कीचड़’ से कौन और कैसे निकालेगा और कांग्रेस पार्टी का रोडमैप क्या होगा? उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित नहीं करने के चलते ही आम आदमी पार्टी का जो हाल 2017 में हुआ था, वह अब कांग्रेस का होगा। उस समय कांग्रेस ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री चेहरा घोषित किया था और पार्टी को अब चाहिए कि 2022 के चुनाव के लिए भी मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करे। 
सामूहिक नेतृत्व के तहत चुनाव में उतरेगी कांग्रेस
पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपना सीएम चेहरा घोषित नहीं करने का फैसला किया था। सामूहिक नेतृत्व में पार्टी आने वाले विधानसभा चुनाव में उतरेगी। कांग्रेस ने पिछला विधानसभा चुनाव कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में लड़ा था लेकिन पार्टी इस बार किसी को अपना सीएम चेहरा नहीं घोषित करेगी। कैप्टन अमरिंदर सिंह खुद अपनी पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस का गठन कर कांग्रेस को चुनौती देने की तैयारी कर रखी है। 

Related posts