सरकार ने हटाए कांगड़ा कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के उपाध्यक्ष और निदेशक

सरकार ने हटाए कांगड़ा कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के उपाध्यक्ष और निदेशक

हमीरपुर

कांगड़ा प्राथमिक कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के उपाध्यक्ष राजेश ठाकुर और निदेशक कुलविंद्र सिंह राणा को सरकार ने उनके पद से हटा दिया है। इनके स्थान पर उद्योग मंत्री बिक्रम ठाकुर के हलके से संबंध रखने वाली अनीता सिपहिया और एचआरटीसी उपाध्यक्ष विजय अग्निहोत्री के चुनावी क्षेत्र नादौन से विनोद पठानिया को निदेशक मंडल में जगह दी गई है। चुनावी साल से ठीक पहले हुई इस कार्रवाई से भाजपा में विद्रोह की चिंगारी फूट सकती है। 

दरअसल, इसी माह बैंक अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी थी। बैंक निदेशक मंडल में कुल नौ सदस्य हैं। छह निर्वाचित हैं जबकि तीन सरकार की ओर से मनोनीत किए गए हैं। 3 अगस्त 2019 को बैंक के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की नियुक्तियां हुई थीं। निर्वाचन के दौरान सभी नौ सदस्यों में यह सहमति बनी थी कि चार साल के कार्यकाल के दौरान दो साल हमीरपुर के कमलनयन शर्मा, शेष दो साल मनोहर लाल शर्मा को बैंक अध्यक्ष की कुर्सी सौंपी जाएगी।

पूर्व में पारित प्रस्ताव के मुताबिक कमलनयन शर्मा का कार्यकाल सितंबर 2021 में पूरा हो चुका है। अब उन्हें कुर्सी छोड़नी है और मनोहर लाल शर्मा को अध्यक्ष बनाया जाना है। आरोप है कि कमलनयन शर्मा पद छोड़ने को तैयार नहीं हैं। इसीलिए अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए हिमाचल प्रदेश सहकारी सभाएं विभाग के रजिस्ट्रार (आरसीएस) को एक पत्र लिखा गया था। माना जा रहा है कि इस पत्र की भनक लगने के बाद ही राजेश ठाकुर और कुलविंद्र राणा को निष्कासित किया गया है।

Related posts