सरकार ने सेब के लिए यूनिवर्सल कार्टन इस्तेमाल के दिए सख्त आदेश, मगर इसकी गुणवता पर उठने लगे सवाल, नुकसान की भरपाई भी करे सरकार

सरकार ने सेब के लिए यूनिवर्सल कार्टन इस्तेमाल के दिए सख्त आदेश, मगर इसकी गुणवता पर उठने लगे सवाल, नुकसान की भरपाई भी करे सरकार

सरकार ने सेब की पैकिंग और विक्री के लिए केवल यूनिवर्सल कार्टन का इस्तेमाल करने के बागवानों और आढ़तियों के लिए सख्त निर्देश जारी किए है । वरना होगी कार्रवाई अब बागवानों और आढ़तियों ने इसकी गुणवता पर सवाल उठाए है कि इसकी क्वालिटी बेहद खराब है । पेटिया स्टेपल करते व ढेर में लगाने पर फट रही है । जिससे माल का नुकसान हो रहा है । बागवानों ने सरकार को चेतावनी दी है कि तुरंत इसकी गुणवता को सुधारा जाए अन्ययथा सरकार मार्किट रेट से नुकसान कि भरपाई करने को तैयार रहे । एक बागवान नेता ने यहाँ तक कहा है कि यदि शीघ्र अम्ल नहीं किया गया तो वे नुकसान होने पर अदालत का दरवाज़ा खटखटाएगे आगे बागवान नेता ने कहा कि यूनिवर्सल कार्टन की गुणवत्ता सही न होने के चलते सेब और नाशपाती की फसल मंडी में पहुंचने से पहले ही दागी हो रही है। सेब और नाशपाती की पेटी को मंडी और मंडी से बाहरी राज्यों को भेजने के लिए ट्रक में ले जानी पड़ती हैं। टेलिस्कोपिक कार्टन की एक पेटी 12 से 13 पेटियों का भार आसानी से सह लेती थी, लेकिन यूनिवर्सल कार्टन की एक पेटी के छह से सात पेटियां रखते ही पेटी फट जाती है और पेटी में लाया फल भी दबकर खराब होना शुरू हो जाता है। आढ़तियों के अनुसार टेलिस्कोपिक कार्टन को बनाने में जो गत्ता उपयोग किया जाता था, वह सख्त और बेहतर गुणवत्ता का होता है। उसमें आसानी से माल लाया और ले जाया जा सकता है। यूनिवर्सल कार्टन बनाने वाली कंपनी कार्टन में जो गत्ता प्रयोग कर रही है वह नरम है। इसकी वजह से वह ज्यादा भर सहन नहीं कर पा रहा है।

भट्ठाकुफर फल मंडी में शनिवार को रोहड़ू, करसोग, कोटखाई और ठियोग से यूनिवर्सल कार्टन में पहुंची सेब और नाशपाती की पेटियों की सप्लाई में भी यही स्थिति देखने को मिली। मंडी के आढ़ती प्रवीण ने बताया कि पुराने कार्टन के मुकाबले नए की गुणवत्ता खराब है। मंडी तक पहुंचने से पहले ही नाशपाती कार्टन में दबकर खराब हो रही है। मंडी में फसल लेकर करसोग से पहुंचे बागवान प्रेम चंद और सुरेंद्र ठाकुर ने कहा कि नए कार्टन में पेटियों को गाड़ी में लोड और अनलोड करने में समस्या पेश आ रही है।

नई पेटियों में नहीं करनी आ रही पैकिंग
बागवानों को नए कार्टन में सेब की पैकिंग करनी नहीं आ रही है। नए कार्टन में सेब या नाशपाती समान आकार ही होनी चाहिए। फलों का आकार बराबर नहीं होने पेटी दब रही है। आढ़तियों का कहना है कि बागवान यूनिवर्सल कार्टन में ऊपर बड़े और नीचे छोटे आकार का सेब और नाशपाती भरकर ला रहे हैं, इससे पेटी खाली जगह होने के चलते भार पड़ने की वजह से दब रही है।

गत्ता मोटा होने पर ही कामयाब होगी सिंगल लेयर पेटी 

सिंगल लेयर (यूनिवर्सल कार्टन) पेटी तभी कामयाब होगी जब उसका गत्ता मोटा होगा। इसलिए कार्टन बनाने वाली कंपनी को बागवानों और आढ़तियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए ही यूनिवर्सल कार्टन तैयार करना चाहिए- प्रताप चौहान, प्रधान, भट्ठाकुफर, फल मंडी आढ़ती एसोसिएशन

Related posts