विद्यार्थियों की पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति पर संकट, निदेशालय ने किया आगाह

विद्यार्थियों की पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति पर संकट, निदेशालय ने किया आगाह

शिमला
नेशनल स्कालरशिप पोर्टल ने अधूरी जानकारियां होने पर विद्यार्थियों को धनराशि जारी नहीं की है। उच्च शिक्षा निदेशालय ने 28 जून तक आवेदन फार्म दुरुस्त करने का इन विद्यार्थियों को अंतिम मौका दिया है।

हिमाचल प्रदेश के 468 विद्यार्थियों की पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति 2021-22 पर संकट खड़ा हो गया है। अनुसूचित जाति वर्ग के इन विद्यार्थियों के आवेदन पत्रों में गलत नाम, बैंक अकाउंट नंबर और आधार नंबर देने से छात्रवृत्ति रुक गई है। नेशनल स्कालरशिप पोर्टल ने अधूरी जानकारियां होने पर इन विद्यार्थियों को धनराशि जारी नहीं की है। उच्च शिक्षा निदेशालय ने 28 जून तक आवेदन फार्म दुरुस्त करने का इन विद्यार्थियों को अंतिम मौका दिया है।

शनिवार को निदेशालय की ओर से छात्रवृत्ति लेने वाले प्रदेश और प्रदेश से बाहर स्थित निजी और सरकारी शिक्षण संस्थानों के प्रभारियों को पत्र जारी कर इस बाबत आगाह किया है। निर्धारित तारीख तक आवेदन पत्रों में सही जानकारी नहीं देने वाले विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति नहीं मिलने के लिए शिक्षण संस्थानों के प्रभारी जिम्मेवार होंगे।

उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा ने बताया कि 12 मई से विद्यार्थियों को आवेदन पत्रों को दुरुस्त करने का मौका दिया गया था। 24 जून तक 468 विद्यार्थियों ने अपने आवेदन पत्र ठीक नहीं करवाए हैं। आवेदनों पत्र में दिए गए बैंक अकाउंट नंबर, आधार नंबर, यूआईडी नंबर और नाम-पते गलत दिए गए हैं। नेशनल स्कालरशिप पोर्टल ने इन गलत जानकारियों को चिन्हित करते हुए इन विद्यार्थियों को छात्रवृत्तियां जारी नहीं की है। उन्होंने कहा कि अब आवेदन पत्रों में जानकारियां ठीक करवाने के लिए 28 जून तक का आखिरी मौका दिया जा रहा है।

Related posts