वायरल ने जकड़े बच्चे और बुजुर्ग

शिमला। अचानक मौसम में हो रहे बदलाव के कारण अस्पतालों में मरीजों की भीड़ बढ़ने लगी है। मौसम का प्रभाव सबसे अधिक बच्चों और बुजुर्गों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। वायरल ने इन्हें जकड़ लिया है। मेडिसन और बाल रोग विभाग की ओपीडी में मरीजों की भीड़ औसत से 15 फीसदी बढ़ गई है।
इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज के इन विभागों में औसत से ज्यादा मरीज आ रहे हैं। इनमें बच्चों की संख्या अधिक है। नवजात से 7 साल की उम्र तक के बच्चे वायरल से पीड़ित हैं। आईजीएमसी में वीरवार के दिन 135 बच्चे उपचार के लिए पहुंचे। यही स्थिति दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल की बाल रोग विभाग की ओपीडी में थी। यहां शाम चार बजे तक 90 से अधिक बच्चाें का स्वास्थ्य जांच कर डाक्टर उन्हें घर भेज चुके थे। दोनों अस्पतालों की मेडिसन ओपीडी में यही आलम रहा। डीडीयू में तैनात मेडिसन के विशेषज्ञ डाक्टर डीआर शर्मा बताते हैं कि मौसम में बदलाव के कारण तापमान ऊपर-नीचे होता है। इस कारण लोग बीमारी के चपेट में आ रहे हैं। अमूमन शिकायत वायरल की रहती है। सांस में तकलीफ, गले में खराश या फिर बुखार रहता है। ऐसे मौसम में ऐहतियात बरतना जरूरी रहता है। आईजीएमसी के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डा. रमेश ने कहा कि मौसम में हो रहे बदलाव के चलते सबसे अधिक बच्चे वायरल की चपेट में आ रहे हैं। मरीजों की संख्या में इस वजह से कुछ बढ़ोतरी हुई है। ओपीडी में मरीजों को गाइड किया जा रहा है।

वायरल से ऐसे बचें :
– गर्मी से एकदम ठंड में न जाए
– गर्म कपड़े पहन कर रखें
– वायरल हो गया है तो घर में आराम करें
– छींकते समय नाक-मुंह पर रुमाल रखें
– भीड़-भाड़ वाली जगहों पर न जाएं
– वायरल पीड़ित व्यक्ति से करीब दस मीटर दूर रहें

Related posts