लाइव एजूकेशन: अब घर बैठे बनिए इं‌जीनियर

इंजीनियर बनने का सपना देखने वाले छात्रों के लिए खुशखबरी है। इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट्स और टीचर्स के लिए आईआईटी ने ‘लाइव एजूकेशन’ के खास इंतजाम किए हैं। अब सिर्फ एक क्लिक से घर बैठे आईआईटी के क्लास रूम जैसी एजूकेशन मिल सकती है। देश-विदेश के 667 इंस्टीट्यूट इसका लाभ ले रहे हैं। यह आंकड़ा फरवरी 2013 तक का है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पहल पर देश के सभी आईआईटी संस्‍थानों ने क्वालिटी ऑफ इंजीनियरिंग एजूकेशन का दायरा बढ़ाने का संकल्प लिया है। इसी के तहत फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स सहित इंजीनियरिंग के 24 सब्जेक्ट के ऑडियो-वीडियो लेक्चर ऑनलाइन उपलब्ध करा दिए गए हैं।

इसमें पांच कोर्स ऐसे हैं, जो 31 जनवरी 2012, एक फरवरी, चार फरवरी 2013 को डाले गए हैं। इनका लाभ देश, विदेश में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट, पढ़ाने वाले फैकल्टी, प्रोफेशनल उठा रहे हैं। वेब, वीडियो का ऑनलाइन कोर्स भी उपलब्ध कराया गया है।

आईआईटी कानपुर के प्रो. मणींद्र अग्रवाल ने बताया कि लाइव कोर्स के लिए स्टूडेंट या फैकल्टी को अपने नाम सहित अन्य जानकारी देनी होगी। एनपीटीएल की वेबसाइट पर जो कोर्स उपलब्ध हैं, उन्हें नि:शुल्क देखकर या सुनकर पढ़ा जा सकता है। इसका पूरा खर्च मानव संसाधन विकास मंत्रालय उठाता है। आईआईटी और मंत्रालय का यह प्रयोग सफल रहा है। बड़ी संख्या में इस वेबसाइट के जरिए आईआईटी के लेक्चर सुने-पढ़े जा रहे हैं। यह जानकारी फीडबैक सिस्टम के जरिये सामने आई है।

इस संस्‍थानों के कोर्स उपलब्ध
आईआईटी कानपुर, मुंबई, दिल्ली, गुवाहाटी, रुड़की, खड़गपुर, मद्रास, आईआईएससी बंगलुरु।

24 सब्जेक्ट के कोर्स उपलब्ध
24 सब्जेक्ट के 700 से ज्यादा ऑडियो, वीडियो लेक्चर वेबसाइट पर पड़े हैं। साइंस टेक्नोलॉजी और ऑप्टिकल कंट्रोल, गाइडेंस एंड इस्टिमेट, बैटर स्पोकन इंगलिश की लेटेस्ट वीडियो और लेक्चर भी सुना व देखा जा सकता है। कंप्यूटर साइंस के 88 कोर्स, एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के 29, केमिकल इंजीनियरिंग के 93, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के 76, मेकेनिकल इंजीनियरिंग के 152, सिविल इंजीनियरिंग के 127 कोर्स के लेक्चर उपलब्ध हैं।

यूपी में इन संस्थानों के स्टूडेंट, फैकल्टी उठा रहे लाभ
एचबीटीआई, महाराणा प्रताप इंजीनियरिंग कॉलेज कानपुर, जीएलए यूनिवर्सिटी मथुरा, गलगोटिया यूनिवर्सिटी गाजियाबाद, शेरवुड कॉलेज बाराबंकी, श्रीराम स्वरूप कॉलेज लखनऊ, अंबालिका, सरस्वती इंजीनियरिंग कॉलेज लखनऊ, सागर इंस्टीट्यूट बाराबंकी।

Related posts