लाइन में करंट आने के कारणों की हो जांच : खरबाड़ा

नादौन (हमीरपुर)। प्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड कर्मचारी यूनियन ने विद्युत अनुभाग सेरा में मेंटेनेंस करते दुर्घटना के शिकार दो कर्मचारियों के झुलसने के मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है। भोजन अवकाश के समय स्थानीय इकाई के कर्मचारियों ने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग को लेकर मंडलीय परिसर में विरोध प्रदर्शन किया।
कर्मचारियों को संबोधित करते हुए यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह खरबाड़ा ने कहा कि अगर शीघ्र मामले की जांच नहीं की गई तो यूनियन मंडलीय परिसर में धरने का आयोजन करेगी। यूनियन गंभीर रूप से घायल कर्मचारियों के उपचार को आर्थिक राहत जारी करने की भी मांग करती है। उन्होंने कहा कि यूनियन प्रीतम चंद (लाइनमैन) और पवन कुमार (सहायक लाइनमैन) मामले की निष्पक्षता से जांच कर नियमों के अधीन अनुशासनात्मक कार्रवाई किए जाने की मांग करती है। विद्युत उपमंडल नादौन में लाइनों के उचित रखरखाव को विद्युत आपूर्ति पूर्व निर्धारित कार्यक्रम अनुसार बंद की गई थी लेकिन 11 केवी लाइन के अचानक चालू होने से उक्त कर्मचारी बुरी तरह झुलस गए हैं जो टांडा अस्पताल में उपचाराधीन हैं। बिजली लाइन चालू किसने की, करंट कैसे लाइन में आया? ये लापरवाही का नतीजा है। विरोध प्रदर्शन में शामिल प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह खरबाड़ा के अलावा वरिष्ठ उपाध्यक्ष कामेश्वरदत्त शर्मा, स्थानीय इकाई के प्रधान सचिव व केन्द्रीय कार्यकारिणी के सदस्य अविनाश ठाकुर, विपिन कुमार, भगत राम, अश्वनी कुमार, मोहन लाल आदि मौजूद रहे।

Related posts