रेलवे में धडले से चल रहा है दलालो का कारोबार, लोग तत्काल टिकट के लिए हो रहे है परेशान

रेलवे में धडले से चल रहा है दलालो का कारोबार, लोग तत्काल टिकट के लिए हो रहे है परेशान

आजमगढ़। आजमगढ़ में ट्रेनों के तत्काल टिकट हासिल करने में दलाल हावी हैं। आम जनता जब तक काउंटर पर या ऑनलाइन बुक कराने का प्रयास करती तब तक दलाल अवैध सॉफ्टवेयर से पहले ही टिकट बुक कर लेते हैं। बताया जा रहा है कि 90 फीसदी तत्काल टिकटों पर दलालों का नियंत्रण है। आईआरसीटीसी के समानांतर सिस्टम चला रहे हैं।

मुंबई, सूरत, गुजरात व अहमदाबाद की ट्रेनों की कम संख्या और यात्रियों की बढ़ती संख्या का फायदा उठाकर दलाल टिकट को मनमाने दाम पर बेचते हैं। स्पेशल ट्रेनों में कंफर्म टिकट नहीं मिलने पर यात्री तत्काल कोटा की ओर भाग रहे हैं लेकिन यहां भी उन्हें राहत नहीं मिल रही है। अवैध सॉफ्टवेयर से दलाल पहले ही टिकट काट लेते हैं। रात भर स्टेशन पर टिकट के लिए लाइन लगने के बाद भी यात्रियों को निराशा हाथ लग रही है। वहीं यात्रियों के मजबूरी का फायदा उठाते हुए टिकट दलाल उन्हें महंगे दामों में कन्फर्म टिकट उपलब्ध करा रहे हैं। जिले में फैले इस काले कारोबार पर अंकुश लगाने में अभी भी रेलवे सुरक्षा बल और रेलवे की अन्य एजेंसियां नाकाम साबित हो रही है। महीने में सिर्फ कुछ कार्रवाई कर वह कोरम पूरा कर ले रहे हैं। लेकिन टिकट दलालों की सक्रियता जस की तस बनी हुई है।

टिकट दलाल इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन (आईआरसीटीसी) के समानांतर सिस्टम चला रहे हैं। यह सिस्टम तत्काल टिकटों की बुकिंग शुरू होते ही रेलवे के सिस्टम को हैक कर लेता है। प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर की चाल रेलवे के सॉफ्टवेयर से कई गुना फास्ट होती है। टिकट दलाल इतने शातिर होते हैं कि टिकट बुक होने से पहले ही यात्री का नाम, उम्र और अन्य विवरण भरकर तैयार रहते हैं। काउंटर पर जब तक क्लर्क 1 टिकट बुक करता है, तब तक दलालों का नेटवर्क अपने सिस्टम से 15-20 टिकट बुक कर लेते हैं। इसके बाद यात्रियों से मुंहमांगी रकम वसूलते हैं।

इन सॉफ्टवेयर को हो रहा प्रयोग : बाजार में नए-नए साफ्टवेयर उपलब्ध हैं। जिसमें पुष्पा जीएफ नया सॉफ्टवेयर है इसमें रेड मिर्ची, रेड मैंगो, ब्लैक वोल्टी, कोविड-19, रेडबुल, डेल्टा व डेल्टा प्लस, ब्लैक टीएस, पुष्पा जीएफ व तेज समेत तमाम सॉफ्टवेयर हैं।

33,524 रुपये के 21 ई टिकट बरामद

सहज जनसेवा केंद्र चलाने की आड़ में रेल टिकट की कालाबाजारी करने वाले दलाल को आरपीएफ की टीम ने रविवार को गिरफ्तार किया। वह सहजेरपुर बाजार में जनसेवा केंद्र चलाता है। केंद्र से मिले प्रतिबंधित गदर सॉफ्टवेयर, 21 रेल ई टिकट, लैपटॉप, प्रिंटर को आरपीएफ ने जब्त कर लिया। पकड़ा गया आरोपी अंकित फूलपुर कोतवाली क्षेत्र के लोनियाडीह गांव का रहने वाला है।

केस-2

33 ई-टिकट के साथ दलाल को किया गिरफ्तार

आरपीएफ व सीआईबी वाराणसी ने संयुक्त रूप से 19 जनवरी को लाटघाट बाजार में ऑनलाइन सर्विस पर छापेमारी दुकान संचालक राजकुमार प्रजापति को गिरफ्तार किया था। वह जीयनपुर कोतवाली के गड़ेरुआ गांव निवासी है। उसने एजेंट आईडी की आड़ में पर्सनल आईडी बनाकर प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर तेज का प्रयोग कर तत्काल ई-टिकट बुक कर महंगे दामों पर बेचता था। उसके पास से टीम ने नौ पर्सनल आईडी बरामद की। इसके साथ ही 61 हजार से अधिक के 29 ई-टिकट बरामद हुए। इन पर यात्री की जानी बाकी थी। 8 हजार से अधिक कीमत के चार ई-टिकट बरामद हुए, इस पर यात्रा हो चुकी थी।

00

कोट

अवैध सॉफ्टवेयर से तत्काल टिकट निकालने वालों पर नजर रखी गई है। बहुत जल्द ही टिकट दलालों पर अंकुश लगाने का कार्य किया जाएगा। – अभय कुमार राय, थाना प्रभारी रेलवे सुरक्षा बल आजमगढ़।

Related posts