राजनीतिक कयासबाजी : अमरिंदर सिंह ने सिद्धू को लंच का न्योता भेजा

राजनीतिक कयासबाजी  : अमरिंदर सिंह ने सिद्धू  को लंच का न्योता भेजा

चंडीगढ़
लंबे समय से पंजाब की राजनीति में अलग-थलग पड़े कांग्रेस विधायक और पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के लिए अच्छी खबर है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उन्हें आज दोपहर के भोजन का न्योता भेजा है। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच पंजाब और राष्ट्रीय राजनीति पर चर्चा की उम्मीद है। इस बात की जानकारी मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने दी है।

बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ नवजोत सिंह सिद्धू के राजनीतिक मतभेद चल रहे थे। सिद्धू की पाकिस्तान यात्रा भी विवादों में रही। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी परोक्ष रूप से सिद्धू पर निशाना साधा था। वहीं बाद में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू के मंत्रालय में बदलाव कर दिया था। इसके विरोध में नवजोत सिंह सिद्धू ने नए मंत्रालय का कार्यभार नहीं संभाला था। बाद में उन्होंने तत्कालीन कांग्रेस  के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेजा था।

हरीश रावत ने निभाई अहम भूमिका
आशा कुमारी के बाद उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को पंजाब कांग्रेस का प्रभारी बनाया गया। हरीश रावत अपना कार्यभार संभालते ही सिद्धू को लेकर बेहद सक्रिय नजर आए। इस दौरान रावत ने सिद्धू से कई मुलाकात की और पार्टी में बड़ी भूमिका देने का आश्वासन भी दिया। इसी का नतीजा रहा कि सिद्धू फिर से अपने विधानसभा क्षेत्र में सक्रिय हुए।

कैप्टन ने पहली बार दिखाई नरमी
तीन कृषि कानूनों के विरोध में मोगा में राहुल गांधी की किसान बचाओ रैली का आयोजन हुआ था। इस रैली में नवजोत सिंह सिद्धू भी शामिल हुए थे। यह पहला मौका था जब सिद्धू ने इस्तीफा देने के बाद पार्टी के किसी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान नवजोत सिंह सिद्धू केंद्र सरकार के साथ-साथ अपनी सरकार पर भी जमकर बरसे थे और कैप्टन सरकार से कई सवाल पूछे थे। हालांकि रैली के दौरान कैप्टन ने सिद्धू के किसी भी सवाल का जवाब नहीं दिया था।

सरकार में वापसी की उम्मीद
कैप्टन के न्योते बाद पंजाब में राजनीतिक कयासबाजी तेज हो गई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि शायद इस मुलाकात के बाद दोनों के रिश्तों में जमी बर्फ भी पिघल सकती है। अगर ऐसा हुआ तो पंजाब सरकार में सिद्धू की वापसी का रास्ता भी खुलेगा।

 

Related posts