मुझे फंसाना चाहती है सरकार : बिक्रम मजीठिया

मुझे फंसाना चाहती है सरकार : बिक्रम मजीठिया

चंडीगढ़
पंजाब के पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को प्रेस कॉन्फ्रेंस में चुनौती दी। उन्होंने कहा कि अगर मेरे खिलाफ सीएम के पास सबूत है तो उन्हें दिखाया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार जानबूझ कर मुझे फंसाना चाहती है। अधिकारियों पर दबाव बनाया जा रहा है। 

ड्रग्स मामले में पूर्व मंत्री और शिअद नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को चुनौती दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा है कि उनके पास मेरे खिलाफ कोई सबूत है तो वह दिखाएं। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार उनके खिलाफ सबूत जुटाने के लिए अधिकारियों पर जबरन दबाव बना रही है। इधर, शिअद के विधायक दल ने मजीठिया के खिलाफ मुख्यमंत्री की अभद्र टिप्पणी की निंदा की है।

अकाली दल विधायक शरणजीत सिंह ढिल्लों सहित विधायक दल के सदस्यों के साथ बिक्रम सिंह मजीठिया ने पत्रकारों से वार्ता के दौरान कहा कि सरकार उन्हें अब नए एनडीपीएस के मामले में फंसाना चाहती है। यही कारण है कि मुख्यमंत्री अब खीजकर उन पर झूठे आरोप लगा रहे हैं। 

वह यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि वह इस तरह की सरकार के प्रयासों से भयभीत नहीं होने वाले हैं। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि उन्होंने विशेष सत्र में केवल जन मुद्दों को उठाया था। उन्होंने मुख्यमंत्री को घेरते हुए कहा कि उन्होंने उनके खिलाफ कोई व्यक्तिगत शिकायत नहीं की थी। 

हकीकत यह थी कि चन्नी खुद उन्हें तत्कालीन उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल के पास ले जाते थे, जब उनके भाई मनमोहन सिंह का नाम सिटी सेंटर घोटाले में शामिल थे। पिछली शिअद-भाजपा सरकार द्वारा पारित ठेकेदार खेती अधिनियम 2013 का जिक्र करते हुए मजीठिया ने कहा कि तत्कालीन सरकार में मुख्य संसदीय सचिव के रूप में नवजोत कौर सिद्धू ने विधेयक का समर्थन किया था और इसे सर्वसम्मति से पारित किया गया था।

Related posts