बाबा बालक नाथ मंदिर न्यास ने ट्रस्टियों के मानदेय पर खर्च कर दिया लाखों का चढ़ावा

बाबा बालक नाथ मंदिर न्यास ने ट्रस्टियों के मानदेय पर खर्च कर दिया लाखों का चढ़ावा

हमीरपुर
उत्तर भारत के प्रसिद्ध सिद्धपीठ बाबा बालक नाथ मंदिर में श्रद्धालुओं द्वारा चढ़ाई जाने वाली चढ़ावे की राशि की एक बड़ी रकम मंदिर न्यास के ट्रस्टियों पर खर्च की जा रही है। नियमों में मंदिर के ट्रस्टियों को न्यास की बैठकों में भाग लेने के लिए एक हजार रुपये प्रति बैठक मानदेय और बस किराया का प्रावधान है, लेकिन चौंकने वाली बात यह है कि कोविड-19 महामारी के दौरान बाबा बालक नाथ मंदिर न्यास ने ट्रस्टियों के मानदेय पर 7 लाख 58 हजार 298 रुपये फूंक डाले हैं। पिछले तीन दशक की बात करें तो ट्रस्ट के खजाने से करोड़ों रुपये महज ट्रस्टियों के मानदेय के नाम पर व्यय किए जा रहे हैं।

आरटीआई एक्टिविस्ट दिनेश कुमार शर्मा पुत्र बलदेव कृष्ण ने कहा कि जुटाई जानकारी से पता चला है कि प्रसिद्ध शक्तिपीठ माता चिंतपूर्णी, प्राचीन शिव मंदिर बैजनाथ मंदिर न्यास, बज्रेश्वरी माता कांगड़ा मंदिर ट्रस्ट, श्रीराम गोपाल मंदिर ट्रस्ट डमटाल, सिरमौर के मंदिर ठाकुरद्वारा देई जी साहिबा मंदिर न्यास के अंतर्गत ट्रस्टियों को मानदेय या वित्तीय लाभ का कोई प्रावधान नहीं, लेकिन हमीरपुर जिला में स्थित दियोटसिद्ध मंदिर ट्रस्ट अपने न्यासियों को लाखों रुपये मानदेय के रूप में बांट रहा है।

पिछले तीन सालों में यह राशि हुई ट्रस्टियों पर खर्च
ट्रस्टियों के नाम वर्ष 2019 वर्ष 2020 वर्ष 2021
नरेश शर्मा 66,070 23,406 89,767
श्याम सिंह 71190 47,430 90,980
सुरेश चौधरी 96570 43,740 57,840
सुरेश शर्मा 41330 22,614 17,340
रमेश शर्मा 71360 75,640 —–
रामेश्वर दत्त शर्मा 62202 50,020 89,620
सोमदत्त 50360 21,200 54,960
सरला शर्मा —– 20,758 52,986
कुल व्यय 4,59,082 3,04,812 4,53,486

विवादों से रहा है मंदिर ट्रस्ट का पुराना नाता
वर्ष 1986-87 में गठित बाबा बालक नाथ मंदिर ट्रस्ट का विवादों से पुराना नाता रहा है। यहां पर चढ़ाए जाने वाले बकरों, चढ़ावे की राशि, सोना-चांदी की हेराफेरी, लंगर विवाद और मंदिर ट्रस्ट की गाड़ियों को निजी इस्तेमाल के आरोप लगते रहे हैं। यही नहीं बीते साल भी एक कर्मचारी ने चढ़ावे की राशि मंदिर ट्रस्ट के बजाय अपने निजी खाते में जमा करवा ली। कई बार ट्रस्ट के कर्मचारियों को सस्पेंड तक किया गया।

बीबीएन मंदिर ट्रस्ट में ट्रस्टियों को बैठक में भाग लेने और चढ़ावे की गणना के दौरान उपस्थित रहने के लिए मानेदय मिलता है। किन नियमों में यह मानदेय मिलता है, इसका पता करना पड़ेगा। – शशिपाल शर्मा, एसडीएम एवं चेयरमैन बीबीएन मंदिर ट्रस्ट दियोटसिद्ध।

Related posts