पार्षदों की ताजपोशी पर विरोध के स्वर

बद्दी (सोलन)। नगर परिषद बद्दी में मनोनीत पार्षदों की नियुक्ति से दून की राजनीति गरमा गई है। ज्योति हत्याकांड में फंसे विधायक रामकुमार चौधरी को कांग्रेस पार्टी ने पहले ही पार्टी से निकाल दिया है। ऐसे में पार्षदों की ताजपोशी में उनके पिता कांग्रेस के पूर्व विधायक लज्जा राम के समर्थकों को भी तरजीह नहीं मिली है। कयास लगाए जा रहे हैं कि सत्ता परमजीत पम्मी को सौंपने की बिसात बिछा दी है। हालांकि पम्मी ने इस बार विस चुनावों में कांग्रेस के खिलाफ काम किया है।
नगर परिषद बद्दी में मनोनीत पार्षदों के मनोनयन के बाद दून में पम्मी गुट के लोगों ने रैली निकालकर अपनी खुशी का इजहार किया। वहीं नगर परिषद बद्दी में अब कांग्रेस और भाजपा के पार्षदों के अलावा परमजीत पम्मी गुट के भी पार्षद शामिल होने से अब तीन गुट मिलकर क्या रणनीति अपनाते हैं इसे लेकर कयास लगाए जा रहे हैं।
दून के पूर्व कांग्रेस विधायक लज्जाराम चौधरी ने इन नियुक्तियों पर कड़ा एतराज जताते हुए कहा कि जिन लोगों ने कांग्रेस के खिलाफ विधानसभा चुनावों में खुलेआम प्रचार किया उन्हें ही मनोनीत पार्षद नियुक्त किया गया। जिसकी शिकायत प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष, व राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजी जाएगी और इन मनोनीत पार्षदों की नियुक्ति करने की मांग की जाएगी। कांग्रेस के बागी परमजीत सिंह पम्मी का कहना है कि मनोनीत पार्षद लंबे अरसे से कांग्रेस से जुड़े हुए हैं। ईमानदार और स्वच्छ छवि के चलते इन्हें मौका दिया गया होगा। वहीं इस संबंध में नगर परिषद बद्दी के कार्यकारी अधिकारी सुधीर शर्मा का कहना है कि मनोनीत पार्षदों की लिस्ट उन्हें मिल चुकी हैं जिसमें पृथ्वी कौशल, हरनेक ठाकुर और प्रकाश बिलांवाली का नाम शामिल है। अधिसूचना मिलते ही उपरोक्त तीनों मनोनीत पार्षदों को शपथ दिलाई जाएगी।

Related posts