परीक्षा ले ली, नौकरी दी नहीं

नादौन (हमीरपुर)। राजस्व विभाग की ओर से पटवारियों की भर्ती परीक्षा रद करने का अभ्यर्थियों ने कड़ा विरोध किया है। राजेश कुमार, संजीव कुमार, यशपाल सिंह, अमरीक सिंह ने कहा कि गत वर्ष जनवरी माह में पटवारियों की भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए थे। इसके लिए अभ्यर्थियों से 200 रुपये सामान्य वर्ग तथा 100 रुपये आरक्षित वर्ग फीस वसूल की गई।
26 अगस्त 2012 को पटवारियों के चयन के लिए प्रारंभिक परीक्षा हुई। इसमें 750 अभ्यर्थियों का चयन मुख्य परीक्षा के लिए हुआ था। मुख्य परीक्षा 18 नवंबर 2012 हुई। इसका परिणाम घोषित होना शेषहै। प्रदेश में चुनाव आचार संहिता लागू होने से इसका परीक्षा परिणाम अधर में लटक गया। अभ्यर्थियों का कहना है कि नई सरकार सत्ता में काबिज हो चुकी है तो राजस्व विभाग की ओर से यह तर्क दिया जा रहा है कि राजस्व विभाग में पटवारियों के लगभग 600 पद रिक्त हैं और पूर्व में ली गई परीक्षा को रद किया जा सकता है। अभ्यर्थियों ने सरकार से गुहार लगाई है कि परीक्षा रद करना न्यायसंगत नहीं है। इससे सभी सफल अभ्यर्थियों को मानसिक आघात पहुंचा है। चयनित बेरोजगार अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह तथा राजस्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर से गुहार लगाई है कि बिना किसी कारण के परीक्षा को रद न किया जाए। मुख्य परीक्षा में बैठे अभ्यर्थियों के माध्यम से ही पद भरे जाएं।

Related posts