नेपाल से मिल रही शातिरों की सूचना

सोलन। किन्नौर के जंगी मूडंग में तीन से चार फीट बर्फ। टैक्सी चालकों के हत्या आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस का जाल। इससे पहले की शातिर दबोचे जाते, अचानक नेपाल से एक फोन काल आई। फोन काल शातिरों के लिए थी। इसी फोन काल ने पुलिस की मेहनत पर पानी फेरना चाहा।
फोन पर सूचना दी गई कि भागो। पुलिस भारी बर्फबारी के बीच किन्नौर में उनके गिरेबान तक पहुंच गई है। इससे पहले की हत्या आरोपी गोपाल और किरण भागते पुलिस ने दोनों शातिरों को ऐन मौके पर दबोचा डाला। सूत्रों के मुताबिक अगर इस काम में थोड़ी से देर होती तो दोनो शातिर पुलिस के जाल को तोड़ने में कामयाब हो जाते।
पुलिस थाना धर्मपुर में दोनो आरोपियों को लाया गया है। दोनों से गहन पूछताछ चल रही है। दावा है कि इनके पकड़े जाने से कुछ और खुलासे भी हो सकते हैं। पुलिस को अंदेशा है कि यह काल उन्हीं दो शातिरों की थी, जिन्हें माओवादियों के ट्रैनिंग कैंप से प्रशिक्षित होने का दावा किया जा रहा है। वहीं पकड़े गए तीनों आरोपियों खड़क बहादुर, सुषमा और बलबीर से गहन पूछताछ कर रही है।

बहन से मिलना है, करते थे कत्ल
सोलन। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने हत्या करने के तरीकों का खुलासा किया। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि खड़क बहादुर टैक्सी चालकों को कहता कि उसने अपनी बहन के साथ मिलना है। वहां से लेबर लेनी है। यह कहकर गाड़ी कच्ची सड़क की तरफ मुड़वाई जाती। जहां मौका पाकर टैक्सी चालक को मौत के घाट उतारा जाता और बाद में वाहन को नेपाल में बेचा जाता।

अब तक 05 आरोपी गिरफ्त में
शिमला कालका परवाणू में तीन टैक्सी चालकों की हत्या के आरोप में पुलिस ने पांच गिरफ्तारियां की हैं। इसमें मास्टर माइंड खड़क बहादुर समेत उसकी दूसरी पत्नी सुष्मा और अन्य साथ बलबीर को पकड़ा गया है। रविवार देर शाम पुलिस ने किन्नौर से गोपाल और किरण को दबोचा है।

रैकेट का पर्दाफाश जल्द : शिव कुमार
डीएसपी शिव कुमार शर्मा ने दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने बड़ी मशक्कत से आरोपियों को पकड़ा है। मामले में कुल पांच गिरफ्तारियां हुई हैं। जल्द ही पूरे रैकेट का पर्दाफाश होने वाला है।

Related posts