निदेशक, उपनिदेशक न होने से सैनिक परेशान

बिलासपुर। राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड में निदेशक के साथ ही उप निदेशक के कई पद रिक्त होना पूर्व सैनिकों पर भारी पड़ रहा है। इसके चलते पूर्व सैनिकों के साथ ही वीर नारियों तथा सेवारत सैनिकों के परिवारों के कई कार्य अधर में लटके हुए हैं। प्रदेश पूर्व सैनिक कल्याण समिति ने रिक्त पद सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारियों से भरने की मांग की है। मंगलवार को मांगों को लेकर समिति के प्रदेश अध्यक्ष सूबेदार प्रकाश चंद की अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल ने उपायुक्त के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भी भेजा।
सूबेदार प्रकाश चंद ने कहा कि वर्तमान में राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड में निदेशक के साथ ही उप निदेशकों के 10 पद रिक्त चल रहे हैं। इसकी वजह से पूर्व सैनिकाें, वीर नारियों तथा सेवारत सैनिकों के परिवारों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी पूर्व सैनिकों, वीर नारियों व सेवारत सैनिकों की समस्याओं को बखूबी समझते व जानते हैं। लिहाजा रिक्त पदों पर सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी ही नियुक्त किए जाने चाहिए।
प्रकाश चंद ने कहा कि पिछले डेढ़ दशक से कैप्टन रैंक के सैन्य अधिकारी सेवानिवृत्त नहीं हो रहे हैं। मौजूदा समय में कर्नल रैंक तक के सैन्य अधिकारियाें की ही सेवानिवृत्ति हो रही है। उन्होंने उप निदेशक पदों पर कर्नल रैंक के सैन्य अधिकारियों को नियुक्त करने की वकालत की ताकि पूर्व सैनिकों को किसी समस्या का सामना न करना पड़े। प्रतिनिधिमंडल में कैप्टन नरेंद्र सिंह, जोगेंद्र सेन, योगेंद्र जमवाल, भाग सिंह, राजेंद्र सिंह, अमरनाथ धीमान, प्रीतम भभौरिया, बाबूराम, रूप सिंह (वीआरसी), योगेंद्र पाल (एसएम), सूबेदार ज्ञानचंद, लश्करी राम, अमर सिंह धीमान, हवलदार लच्छूराम, जगदीश, सुखदेव कौशल, सुरेंद्र शर्मा, जगन्नाथ शर्मा, जीतराम मिन्हास, आेंकार सिंह जमवाल, शिव सिंह व बलदेव सिंह आदि शामिल थे।

Related posts