निजी अस्पताल का कारनामा : पथरी निकाली ही नहीं ऑपरेशन कर डाला स्टेंट, अब उठी कार्रवाई की मांग

निजी अस्पताल का कारनामा : पथरी निकाली ही नहीं ऑपरेशन कर डाला स्टेंट, अब उठी कार्रवाई की मांग

हमीरपुर
मरीज अजय कुमार और उनके भाई राजेश कुमार ने कहा कि अस्पताल प्रबंधन से उनकी फाइल और रिकॉर्ड मांगा गया तो बताया गया कि यह रिकॉर्ड गोपनीय होता है।

हमीरपुर जिला मुख्यालय के साथ लगते एक निजी अस्पताल में मरीज का ऑपरेशन कर स्टेंट डाल दिया गया, लेकिन उसकी पथरी नहीं निकाली। मरीज ने चिकित्सकों से पूछा तो दो चिकित्सकों ने अलग-अलग बयान दिए। एक ने कहा कि मरीज के पेट में पथरी थी ही नहीं, जबकि दूसरे चिकित्सक ने कहा कि पथरी निकाल दी गई है। मरीज और उसके तीमारदारों को बताया गया कि पथरी नहीं निकाली है और स्टेंट डाल दिया गया है। इससे अगर पथरी हुई तो वह पेशाब के रास्ते बाहर आ जाएगी।

मरीज अजय कुमार और उनके भाई राजेश कुमार ने कहा कि अस्पताल प्रबंधन से उनकी फाइल और रिकॉर्ड मांगा गया तो बताया गया कि यह रिकॉर्ड गोपनीय होता है। मरीज के भाई राजेश कुमार ने इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी हमीरपुर और पुलिस थाना में शिकायत दर्ज करवाई है। उन्होंने विभाग से गुहार लगाई है मामले की छानबीन कर उचित कार्रवाई की जाए।

बता दें कि यह अस्पताल पूर्व में भी एक गर्भवती महिला की मौत मामले में विवादों में रहा था और महिला के परिजनों ने अस्पताल का घेराव भी किया था। उधर, इस संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी हमीरपुर डॉ. आरके अग्निहोत्री ने कहा कि इस मामले की शिकायत उनके पास आई है। मामले की छानबीन कर उचित कार्रवाई की जाएगी। एसएचओ सदर संजीव गौतम ने कहा कि पुलिस के पास ऐसी कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई है।

Related posts