नारा लगाने वाले शिक्षक को हाईकोर्ट से राहत, पसंद का मिला स्टेशन

नारा लगाने वाले शिक्षक को हाईकोर्ट से राहत, पसंद का मिला स्टेशन

शिमला
जोइया मामा का नारा लगाने के बाद स्थानांतरित शिक्षक ओम प्रकाश शर्मा को हाईकोर्ट ने राहत देते हुए उनका मनपसंद स्टेशन के लिए तबादला करने के आदेश जारी किए। बजट सत्र के दौरान विधानसभा के बाहर हुए प्रदर्शन में नारा लगाने वाले शिक्षक का सरकार ने हार्ड एरिया में तबादला कर दिया था।

पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग को लेकर बजट सत्र के दौरान विधानसभा के बाहर हुए प्रदर्शन में ‘जोइया मामा मानदा नहीं, कर्मचारी को शुणदा नेई’ का नारा लगाने वाले शिक्षक का सरकार ने हार्ड एरिया में तबादला कर दिया था। इसके विरोध में शिक्षक ओमप्रकाश ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। हाईकोर्ट के आदेश के बाद शिक्षा विभाग ने शिक्षक को राहत देते हुए उन्हें उनके पसंद के स्टेशन में तबादला कर दिया। शिक्षक ने कुपवी के हार्ड एरिया में राजकीय उच्च पाठशाला बाग में ज्वाइनिंग दे दी है। कोर्ट में याची के अधिवक्ता कुलभूषण खजूरिया ने दलील दी थी कि वह दो बार हार्ड एरिया में सेवाएं दे चुके हैं।

तबादला नीति के अनुसार जिसने भी यह समय पूरा कर लिया है, उसे दोबारा ऐसे क्षेत्र में नहीं भेजा जा सकता है। इस पर हाईकोर्ट ने शिक्षक को अपनी पसंद के पांच स्टेशन बताने के लिए कहा था। इनमें चार बाहरी जिले के देने थे। सरकार ने ओम प्रकाश को सिरमौर के हलांह स्कूल से शिमला जिले की ननखड़ी तहसील की वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शोली के तहत मिडल स्कूल सरोग ट्रांसफर कर दिया था। याची के वकील खजूरिया ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेश पर शिक्षा विभाग ने उन्हें सिरमौर जिले के सीमावर्ती शिमला जिले की कुपवी तहसील में राजकीय उच्च पाठशाला बाग स्टेशन दिया है। सिरमौर के रहने वाले ओम प्रकाश कला प्रशिक्षित स्नातक हैं।

Related posts