जुटेंगे भारत-अमेरिका के सैनिक, एक-दूसरे से सीखेंगे ‘युद्ध कौशल’

जुटेंगे भारत-अमेरिका के सैनिक, एक-दूसरे से सीखेंगे ‘युद्ध कौशल’

बीकानेर
राजस्थान के बीकानेर स्थित महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में भारतीय और अमेरिकी सेना के जवान सोमवार (आठ फरवरी) से संयुक्त रूप से युद्ध अभ्यास करेंगे। यह युद्ध अभ्यास दो सप्ताह तक चलेगा। इस दौरान दोनों ही देशों के जवान युद्ध की अपनी कुशलताओं का आदान-प्रदान करेंगे। इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में चीन की आक्रामक सैन्य मुद्राओं सहित आम चुनौतियों से निपटने और रक्षा सहयोग का विस्तार करने के लिए दोनों देश ‘युद्ध अभ्यास’ करेंगे।

आठ से 21 फरवरी तक चलेगा युद्ध अभ्यास
इस युद्ध अभ्यास को लेकर अमेरिकी दूतावास ने कहा कि राजस्थान में महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में आठ से 21 फरवरी तक दोनों देशों के करीब 250 सैनिक भाग लेंगे। यह वार्षिक प्रशिक्षण अभ्यास सांस्कृतिक आदान-प्रदान के माध्यम से संयुक्त अंतर-क्षमताओं को बढ़ावा देगा। साथ ही इससे इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में साझा रक्षा उद्देश्यों को भी बढ़ावा मिलेगा। दूतावास की तरफ से यह भी कहा गया है कि यह युद्ध अभ्यास पेशेवर और सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रदान करेगा, जो प्रशिक्षण के माध्यम से दोनों सेनाओं के बीच साझेदारी को मजबूत करेगा। 

दो सेनाओं के बीच प्रथाओं, सहयोग और तालमेल को बढ़ाना है उद्देश्य
अमेरिकी दूतावास की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि इस युद्धाभ्यास का उद्देश्य दोनों सेनाओं के बीच सामरिक स्तर पर अभ्यास और एक दूसरे की सर्वोत्तम प्रथाओं, सहयोग और तालमेल को बढ़ाना है। यह युद्धाभ्यास, वैश्विक आतंकवाद की पृष्ठभूमि में दोनों देशों के सामने मौजूदा चुनौतियों के संदर्भ में काफी महत्वपूर्ण है। संयुक्त अभ्यास दोनों सेनाओं के बीच रक्षा सहयोग के स्तर को बढ़ाएगा। साछ ही यह दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देगा और भारत-प्रशांत क्षेत्र में एक प्रमुख भागीदार के रूप में भारत की महत्वपूर्ण भूमिका को दोहराएगा।

आतंकवाद रोधी अभियानों पर केंद्रित होगा युद्ध अभ्यास
भारतीय सैन्य प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल अमिताभ शर्मा ने बताया कि भारत-पाक सीमा के पास होने जा रहा युद्ध अभ्यास आतंकवाद रोधी अभियानों पर केंद्रित होगा। उन्होंने बताया कि सैन्य विनिमय कार्यक्रम के तहत अमेरिकी सैनिक ”युद्ध अभ्यास” के 16वें संस्करण के लिए पांच फरवरी को भारत पहुंचेंगे। इस द्विपक्षीय अभ्यास में भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व सप्त शक्ति कमान की 11वीं बटालियन जम्मू और कश्मीर राइफल्स करेगी और अमेरिकी सेना के प्रतिनिधिमंडल का प्रतिनिधित्व 2 इन्फैंट्री बटालियन, 3 इन्फैंट्री रेजिमेंट, 1-2 स्ट्राइकर ब्रिगेड कॉम्बैट टीम के सैनिक करेंगे। 

Related posts