छात्र पिटाई मामले में प्रदेश हाई कोर्ट हुआ सख्त

छात्र पिटाई मामले में प्रदेश हाई कोर्ट हुआ सख्त

कुल्लू

कुल्लू जिले की राजकीय माध्यमिक पाठशाला शमशी में 30 बच्चों की पिटाई के मामले में हाईकोर्ट ने कड़ा संज्ञान लिया है। अब हाईकोर्ट ने शमशी स्कूल प्रभारी और अध्यापिका का रिकॉर्ड प्रारंभिक शिक्षा विभाग से तलब किया है। हालांकि, शिमला निदेशालय ने पहले ही लापरवाही बरतने पर दोनों को चार्जशीट किया है, लेकिन अब मामले में हाईकोर्ट की ओर से संज्ञान लेने के बाद दोनों पर गाज गिरना तय है।

बता दें कि 10 जून को शमशी स्कूल में सातवीं कक्षा के 30 विद्यार्थियों को शोर मचाने पर एक निजी संस्थान के प्रशिक्षु शिक्षक ने केबल तार से पीटा था। उस दौरान प्रशिक्षु शिक्षक की माता ममता की गणित की कक्षा थी, जिसकी जगह पर उसका बेटा (प्रशिक्षु शिक्षक) बच्चों की कक्षा लगाने गया था। पीड़ित बच्चों ने प्रशिक्षु शिक्षक की ओर से पिटाई करने के बाद अपने माता-पिता को यह बात बताई। इसी दिन रात को बच्चों का मेडिकल तेगुबेहड़ अस्पताल में करवाया था।

सूचना मिलने के बाद प्रारंभिक शिक्षा उपनिदेशक 11 जून को शमशी स्कूल गए। वहीं, भुंतर थाना में प्रशिक्षु शिक्षक प्रणव शर्मा के खिलाफ मामला भी दर्ज किया गया था। वहीं, उपनिदेशक प्रारंभिक शिक्षा विभाग कुल्लू डॉ. सुरजीत रॉव ने बताया कि हाईकोर्ट ने स्कूल प्रभारी और अध्यापिका का रिकॉर्ड मांगा है। दोनों का रिकॉर्ड बनाकर शिमला निदेशालय भेज दिया है। इस पर अब अंतिम निर्देश हाईकोर्ट देगा।

Related posts