घंडूरी के जंगलों में वन माफिया का आतंक

नौहराधार (सिरमौर)। वन काटुओं ने विभाग तथा सरकारी नियमों को दरकिनार कर क्षेत्र के एक जंगल से करीब दो दर्जन पेड़ों को काट डाला। चूड़धार वन परिक्षेत्र के तहत पंचायत घंडूरी के तलागना के जंगल में हुई इस कार्रवाई से फिलहाल वन विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। इतनी बड़ी संख्या में पेड़ों को हलाक करने की घटना से क्षेत्र के लोगों में भारी रोष है। इस बाबत बीओ नौहराधार भगवान सिंह ने बताया कि छानबीन के लिए वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई है। विभाग ने कटे पेड़ों को अपने कब्जे मेें ले लिया है।
वीरवार देर रात कुछ अज्ञात लोगों ने 2 दर्जन के करीब रई के पेड़ों को काट डाला है। इसकी भनक लगते ही कुछ ग्रामीण साहस दिखाकर घटना स्थल पर पहुंच गए। लेकिन शोर मचता देख अज्ञात वन माफिया कटे हुए पेड़ों को छोड़कर भाग निकले। पूर्व बीडीसी अध्यक्ष राजेश ठाकुर, दुर्गा सिंह, पूर्व प्रधान बलदेव ठाकुर और मस्तराम ने बताया कि इतने अत्याधिक पेड़ों का कटना वन विभाग की लापरवाही को दर्शाता है। ग्रामीणों का गुस्सा तथा आग्रह देखने के बाद ही शुक्रवार को विभाग ने अपनी जांच पड़ताल आरंभ की।
क्षेत्र के जानकारों का मानना है कि इस समय चूड़धार सेंक्चुरी क्षेत्र में भारी बर्फबारी होने के कारण वन माफिया पेड़ काटने में कामयाब हो गए। इस समय कार्रवाई करने तथा आवाजाही करने के सभी रास्ते बर्फबारी के चलते बंद पड़े हैं। ग्रामीणों ने इसे चिंता का विषय बताया है। चूड़धार वन परिक्षेत्र शिमला के डीएफओ रमन शर्मा ने बताया कि शुरुआती पड़ताल के आधार पर दस पेड़ क्लास-4 के मिले हैं। दस अन्य पेड़ अंडर क्लास कटे मिले हैं। करीब दस पेड़ कटे मिल चुके हैं। कुछ हिस्सा निजी भूमि का है तो कुछ जमीन सेंक्चुरी एरिया की है। जांच पड़ताल जारी है।

Related posts