खून के धब्बे खोल सकते हैं हत्या का राज!

रोहड़ू। पुलिस थाना रोहड़ू से मात्र सौ मीटर की दूरी पर 23 दिन पहले विंकल की मौत के रहस्य से पर्दा नहीं हट पाया है। युवक विंकल हत्याकांड की जांच में जुटी पुलिस अभी तक उलझी हुई है। कई दिन भटकने के बाद एक कमरे से मिले खून के निशान से पुलिस को हत्या का राज खुलने की उम्मीद है। विंकल मौत से कुछ घंटे पहले रात के समय पालीटेक्निक कालेज के हास्टल में था। इससे पहले सात बजे तक उसके साथ पूछताछ के लिए पहले गिरफ्तार हो चुका युवक करतार साथ था। रात का खाना भी उसने हास्टल में ही खाया था। उसके बाद विंकल को कौन बुला कर ले गया, इसका खुलासा नहीं हो रहा है। विंकल की पहले एक युवती से कई बार बात भी होती रही है। पुलिस युवती से भी पूछताछ कर चुकी है। युवती से पूछताछ में पुलिस को कई सुराग नहीं मिला है। पुलिस को अब जांच के दौरान पास में एक निजी कमरे की दीवार में खून के धब्बे भी मिले हैं। पुलिस ने खून के निशान को जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेज दिया है। खून के नमूने की रिपोर्ट आने से पुलिस को राज खुलने की उम्मीद है।
विंकल हत्या का सुराग न लगने से गुस्साए टाहू गांव के लोग दो बार पुलिस थाने पहुंच चुके हैं। 21 मार्च को ग्रामीण पुलिस के सामने दो सप्ताह का अंतिम अल्टीमेटम दे चुके हैं। तय समय में विंकल हत्याकांड का सुराग नहीं लगता है तो पुलिस तथा प्रशासन को फिर लोगों के गुस्से को झेलने के लिए तैयार रहना होगा। पुलिस थाना रोहड़ू के प्रभारी विक्रम चौहान ने बताया कि मामले की पुलिस जांच कर रही है। उन्होंने बताया कि खून के निशान एक कमरे से जरूर मिले हैं, लेकिन वह किसके हैं, इनको जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस जांच अभी तक किसी नतीजे में नहीं पहुंच रही है।

Related posts