खल्याणी स्कूल का भवन ध्वस्त

कुल्लू। भूस्खलन के चलते प्राथमिक स्कूल खल्याणी का भवन ध्वस्त हो गया। गनीमत यह रहा कि स्कूल में आज छुट्टी थी। बारिश के चलते प्रशासन ने स्कूल बंद कर रखे हैं। स्कूल में 47 बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं। प्रशासन ने अगर अवकाश की घोषणा न की होती तो शायद यह तबाही हाहाकार मचा देती।
तीन दिन से हो रही बर्फबारी और बारिश के कारण राजकीय प्राथमिक स्कूल खल्याणी का भवन भूस्खलन के कारण ताश के पत्तों की तरह ढह गया। हादसा बुधवार सुबह आठ बजे के आसपास हुआ।
गनीमत यह रहा कि प्रशासन ने खराब मौसम को देखते हुए बुधवार को शिक्षण संस्थानों में अवकाश घोषित कर रखा था। स्कूल प्रबंधन के मुताबिक छुट्टी न होती तो कई नौनिहाल और अध्यापक हादसे का शिकार बन सकते थे। स्कूल भवन ढहने के बाद अब शिक्षा विभाग और संबंधित अधिकारियों की नींद टूटी है। स्कूल प्रबंधन ने हादसे की आशंका को लेकर सर्व शिक्षा अभियान, शिक्षा उपनिदेशक और लोनिवि को कई बार लिखित में सूचना दी थी। लेकिन किसी ने इस पर गौर नहीं किया। खलयाणी एसएमसी अध्यक्ष गुलाब सिंह ने बताया कि कोलीबेहड़-खलयाणी सड़क निर्माण के दौरान स्कूल की सुरक्षा के लिए पत्थर की दीवार खड़ी की थी। लेकिन पिछले साल ही यह दीवार ढह गई थी। इसको लेकर स्कूल प्रबंधन कई बार अधिकारियों को सूचना दे चुका है। इस हादसे के बाद बच्चों के अभिभावक सहमे हुए हैं। 2008 से लेकर इस भवन की हालत बिगड़ती जा रही थी। शिक्षा महकमे को इस बारे बार-बार सचेत किया गया लेकिन विभाग सोया ही रहा। उन्होंने शिक्षा महकमे से जल्द भवन बनाने की मांग की है। प्राथमिक शिक्षा उपनिदेशक प्रदीप शर्मा ने बताया कि इसकी सूचना विभाग के आला अधिकारियों को दी थी। जल्द ही नुकसान का आकलन किया जाएगा।

Related posts