कांग्रेस में दूसरी सूची पर मंथन, इन 12 विधायकों की दावेदारी पर फैसला आज

कांग्रेस में दूसरी सूची पर मंथन, इन 12 विधायकों की दावेदारी पर फैसला आज

चंडीगढ़
पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की ओर से जारी पहली सूची के बाद अब दूसरी सूची के लिए मंथन शुरू हो गया है। संभावना जताई जा रही है कि सोमवार शाम को केंद्रीय चुनाव समिति दूसरी सूची जारी कर सकती है। पहली सूची में पार्टी के 12 विधायकों की उम्मीदवारी पर फैसला नहीं हो पाया है।

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू की खींचातानी के बीच कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व ने शनिवार को 86 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की थी। इसमें मुख्यमंत्री चन्नी, सिद्धू सहित सभी पार्टी के दिग्गजों को चुनाव मैदान में उतार दिया है। अब कुल 117 विधानसभा सीटों में से 31 सीटों पर फैसला होना बाकी है।

इन सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा को लेकर केंद्रीय चुनाव समिति ने मंथन शुरू कर दिया है। पार्टी सूत्रों के अनुसार इन बची हुई 31 सीटों में 12 विधायकों की उम्मीदवारी पर भी केंद्रीय नेतृत्व फैसला लेगा। अभी ये पार्टी के विधायक पशोपेश में हैं कि वे प्रचार करें या नहीं। या किसी अन्य दल के साथ बातचीत शुरू करें।

पार्टी सूत्रों के अनुसार दूसरी सूची पर सोमवार दोपहर तक फैसला हो गया है। संभावना यह है कि शाम को दूसरी सूची की घोषणा केंद्रीय नेतृत्व द्वारा कर दी जाएगी। पांच टिकटों पर अभी सिद्धू और चन्नी को लेकर विवाद बना हुआ है, जिसके कारण दूसरी सूची में देरी होने भी संभावना है।

इन 12 विधायकों के टिकट पर नहीं हुआ फैसला
कुलदीप वैद: पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के करीबी रहे हैं। उनके इस्तीफे के बाद अब वह चन्नी खेमे के साथ हैं।
दविंदर घुबाया: फाजिल्का से विधायक हैं, साथ ही विवादों में रहते हैं। हाल ही में इनका महिला एसएचओ को धमकाने का ऑडियो वायरल हुआ था।
रमिंदर आंवला: जलालाबाद से विधायक हैं। सीट बदलने के कारण इनका टिकट रोका गया है। इनकी गुरु हरसहाय सीट से लड़ने की चर्चा है।
जोगिंदरपाल भोआ: गुरदासपुर के भोआ से विधायक हैं। यह प्रताप सिंह बाजवा के करीबी हैं। उनकी भोआ की दावेदारी फिलहाल मजबूत है।
तरसेम डीसी: अटारी से विधायक हैं। फिलहाल इनका टिकट सुरक्षित है। दूसरी सूची में इनका नाम आ सकता है।
सुखपाल भुल्लर: खेमकरण से विधायक हैं। इनका टिकट सुरक्षित है। पहली सूची में नाम नहीं आने से पशोपेश हैं।
रमनजीत सिक्की: खडूर साहिब से सांसद जसबीर डिंपा को टिकट दिया जा रहा है। इस कारण से अभी इस सीट पर कोई घोषणा नहीं की गई है।
अंगद सिंह: नवांशहर से विधायक अंगद सिंह की पत्नी अदिति उत्तर प्रदेश में भाजपा में शामिल हुई हैं, इसलिए इस सीट पर मंथन किया जा रहा है।
अमरीक सिंह ढिल्लों: समराला से विधायक हैं। बलबीर राजेवाल यहां से चुनाव लड़ रहे हैं। इस कारण इस पर अभी फैसला नहीं हो पाया है।
सत्कार कौर: फिरोजपुर देहात से विधायक हैं। अच्छी रिपोर्ट नहीं मिलने के कारण केंद्रीय नेतृत्व ने टिकट पर फैसला नहीं किया है।
सुरजीत धीमान: अमरगढ़ से विधायक हैं। कैप्टन के कट्टर विरोधी हैं। उनका टिकट रोके जाने कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं।
निर्मल सिंह: शुतराणा से विधायक हैं। इन्होंने सरकार पर क्षेत्र में विकास कार्य नहीं करवाने के आरोप लगाए थे। सर्वे रिपोर्ट भी ठीक नहीं है।

Related posts