कर्मचारी महासंघ का अधिवेशन उड़ीसा में

रोहड़ू। राष्ट्रीय राज्य कर्मचारी महासंघ का राष्ट्रीय अधिवेशन नौ तथा दस फरवरी को उड़ीसा में होगा। इस दौरान कर्मचारियों की मांगों पर चर्चा की जाएगी। अधिवेशन में हिमाचल से करीब 120 प्रतिनिधियों के शामिल होने की उम्मीद है। राष्ट्रीय राज्य कर्मचारी महासंघ के राष्ट्रीय महामंत्री विपन डोगरा ने कहा कि अधिवेशन में राष्ट्र स्तरीय कर्मचारी विरोधी आर्थिक नीतियों तथा संगठनात्मक विषयों पर चर्चा की जाएगी। मुख्य रूप से अधिवेशन में पुरानी पेंशन तथा जीपीएफ सुविधा बहाल करना, अंशदायी पेंशन को रद करना, सभी राज्य में एक समान रिटायरमेंट लागू करना आदि मुद्दों को उठाया जाएगा। इस दौरान पांचवें तथा छठे वेतन आयोग की सिफारिशों में व्याप्त विसंगतियों को दूर करने, 50 प्रतिशत महंगाई भत्ता को मर्ज करने, करुणामूलक आधार पर रोजगार बिना किसी शर्त देने, सभी राज्य तथा केंद्र में एक समान महंगाई भत्ता देने, मोबाइल फोन भत्ते की मांग सहित उग्रवाद, नकसलवाद प्रभावित क्षेत्रों में कर्मचारियों की सुरक्षा तथा अधिक वेतन और मुआवजा देने आदि की मांगों पर विस्तार से चर्चा की जाएगी। अधिवेशन में केसी मिश्रा तथा वीके राय मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहेंगे। हिमाचल की ओर से अधिवेशन में शामिल होने वाले करीब 120 कर्मचारियों ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। उन्होंने कहा कि यदि सरकारें कर्मचारियों की इन मांगों पर अमल नहीं करेंगी तो राष्ट्रीय राज्य कर्मचारी महासंघ दोबारा नई रणनीति तय करेगा।

Related posts