करुणामूलक नौकरी देने में पांच प्रतिशत का कोटा बड़ी बाधा: सीएम जयराम

करुणामूलक नौकरी देने में पांच प्रतिशत का कोटा बड़ी बाधा: सीएम जयराम

प्रदेश में पिछले कई दिनों से करुणामूलक आधार पर नौकरियां देने की मांग की जा रही है, लेकिन इसमें मात्र पांच प्रतिशत का कोटा सबसे बड़ी बाधा बन रहा है। यह बात पालमपुर में पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कही। सीएम ने कहा कि वह भी चाहते हैं कि इसके तहत लोगों को नौकरियां मिले। इसलिए इसमें जो भी मदद होगी, वह करेंगे। 

जयराम ठाकुर ने कहा कि आज कांग्रेस के पास नेतृत्व की कमी है। कांग्रेस ने कोविड-19 में राजनीतिक लाभ लेना चाहा। जब कोविड-19 नहीं होगा तो कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि भगवान का शुक्र है कि कोरोना काल में न तो केंद्र और न प्रदेश में कांग्रेस सरकार थी अन्यथा बड़ी लूट मच जाती।

जिस कांग्रेस ने अपनी पार्टी हाईकमान को कोरोना काल में 12 करोड़ रुपयाें का झूठा बिल दे दिया तो वह आम जनता को कहां छोड़ती। सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार ने मंडी, सोलन और पालमपुर को नगर निगम बनाया। पालमपुर को नगर निगम बनाने में बड़ी बाधा आ रही थी, क्योंकि नगर निगम बनाने के लिए पचास हजार आबादी चाहिए।

पालमपुर नगर परिषद की आबादी मात्र 3500 थी। लिहाजा, उन्होंने एक्ट में संशोधन कर इसे 40 हजार तक पहुंचाया। तब जनता की मांग पर पालमपुर को नगर निगम का दर्जा मिला। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार, उद्योग मंत्री विक्रम ठाकुर, प्रदेश संगठन मंत्री त्रिलोक कपूर आदि मौजूद रहे।

कांग्रेस ने की अपने नेता वीरभद्र सिंह की अनदेखी
जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री एवं अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह की अनदेखी की है, जिसे वीरभद्र सिंह खुद कई बार बता चुके हैं। सीएम बोले, वह वीरभद्र सिंह का सम्मान करते हैं।

Related posts