उत्तर भारत की 116 विधायक हिमाचल में आज से सीखेंगी प्रभावी नेतृत्व के तौर-तरीके

उत्तर भारत की 116 विधायक हिमाचल में आज से सीखेंगी प्रभावी नेतृत्व के तौर-तरीके

धर्मशाला
‘जेंडर रिस्पोंसिव गवर्नेंस’ यानी ‘लिंग उत्तरदायी शासन’ विषय पर पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। तीन दिनों तक चलने वाली इस कार्यशाला में महिला विधायकों के लिए दूसरों को प्रभावित करने के तरीकों पर एक विशेष सत्र आयोजित किया जाएगा।

उत्तर भारत की 116 महिला विधायक बुधवार से हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में भावनात्मक बुद्धिमता से प्रभावी नेतृत्व के तौर-तरीके सीखेंगी। इसके लिए ‘जेंडर रिस्पोंसिव गवर्नेंस’ यानी ‘लिंग उत्तरदायी शासन’ विषय पर पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है।

तीन दिनों तक चलने वाली इस कार्यशाला में महिला विधायकों के लिए दूसरों को प्रभावित करने के तरीकों पर एक विशेष सत्र आयोजित किया जाएगा। लिंग संवेदी और समावेशी संचार विषय के अंतर्गत इन्हें प्रभावशाली संचार के सूत्र बताए जाएंगे। महिलाओं और किशोरियों पर केंद्रित रहते हुए लिंग आधारित हिंसा के बारे में जानकारी दी जाएगी।

एक सत्र में बताया जाएगा कि विकसित ढांचे का उपयोग करते हुए किस तरह से महिलाओं में प्रभावशाली नेतृत्व किया जा सकता है। इस दौरान यह भी बताया जाएगा कि समावेशी सरकार की दिशा में अब तक भारत में क्या कदम बढ़ाए गए हैं और भविष्य की क्या राह होगी।

धर्मशाला के एक निजी होटल में यह कार्यशाला महिला आयोग और लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी (एलबीएसएनएए) के संयुक्त प्रयासों से आयोजित की जा रही है। कार्यशाला के पहले दिन उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल बतौर मुख्यातिथि मौजूद रहेंगी। इस कार्यशाला में उत्तर भारत के पांच राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश ये 116 महिला विधायक भाग लेंगी।

Related posts