आसमानी बिजली से छह लोग घायल

शिमला/धर्मशाला। हिमाचल में अचानक बदला मौसम मुसीबत बनकर आया। प्रदेश में चार मकान क्षतिग्रस्त हो गए। तेज हवाओं से घरों की छतें उड़ गईं और फसल को नुकसान हुआ। आसमानी बिजली से छह लोग घायल हो गए हैं। शिमला और हमीरपुर सहित कई जगह दिन में ही अंधेरे जैसी स्थिति हो गई। शिमला में शाम के समय गर्जना के बीच भारी ओलावृष्टि हुई। प्रदेश में शनिवार रात से भारी बारिश हो रही है। लाहौल, किन्नौर, कुल्लू, मंडी, चंबा और धौलाधार की ऊंची चोटियों पर हिमपात हुआ। हिमाचल में 24 घंटों में तेज हवाओं के साथ बारिश की संभावना है। निदेशक मनमोहन सिंह के अनुसार 27 मार्च से एक और पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है। इसके बर्फबारी व बारिश होगी।
कांगड़ा में दिनभर मूसलाधार बारिश होती रही। कांगड़ा के जोगीपुर और पंचरुखी के टटैहल में आसमानी बिजली से दो भवनों की दीवारों में दरारें पड़ गईं। मकान के भीतर रखे सामान को नुकसान पहुंचा है। चंबा में ग्राम पंचायत कोकला के गांव कलोटी में आसमानी बिजली गिरने से तीन लोग घायल हो गए हैं। घायलों का चंबा अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। हमीरपुर के घुरकाल में बिजली गिरने से दो मंजिला मकान में छेद पड़ गया। इससे तीन लोग घायल हो गए। तेज हवाओं और बारिश से 50 फीसदी फसलें तबाह हो गई हैं। हमीरपुर के कई क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति और दूरसंचार सेवा प्रभावित रही। जलोड़ी जोत में सात सेंटीमीटर बर्फबारी से आनी-कुल्लू सड़क बंद हो गई है।
नयनादेवी हलके के मतनोह निवासी चेतराम, बालक राम, दिला राम, मस्तराम, रंगीराम, मंगतराम व पंजपीरी निवासी अमर देई के मकानों की छतें उखड़ गईं। तूफान से टीन की चादरें व स्लेट उखड़ गए। बारिश से मकान के भीतर का सामान बर्बाद हो गया। मंडी में सरकाघाट के देवप्राढ़ता गांव में आसमानी बिजली से एक मकान को क्षति पहुंची है। जिले की बल्ह घाटी व चौंतड़ा क्षेत्र में ओलावृष्टि से फसलाें को नुकसान हुआ है
बिलासपुर के नलवाड़ी और ऊना के मैड़ी में चल रहे बाबा बड़भाग सिंह होला-मोहल्ला मेले में अफरातफरी मच गई। कारोबारियों के अस्थाई टेंट और दुकानें आदि उखड़ गईं। पुलिस विभाग का टेंट भी टूट गया। अंब उपमंडल में गेहूं की फसल खेतों में बिछ गई है। आम, अमरूद, आड़ू, किन्नू जैसे फलदार पौधों को भी नुकसान पहुंचा है। ऊना, हरोली, मैहतपुर, अंब समेत जिले के कई इलाकों में रात को बत्ती गुल रही। मैहतपुर में 32 केवी विद्युत लाइन पर आसमानी बिजली गिरने से नुकसान हुआ।

केलांग में 25, कल्पा में 10 सेंटीमीटर हिमपात
शिमला। केलांग में 25, कल्पा में 10 और मनाली में 2 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है। मनाली में मार्च के अंतिम सप्ताह में 21 साल बाद बर्फ गिरी है। इससे पहले 1992 में बर्फ गिरी थी। शिमला का न्यूनतम तापमान जहां 6.7 डिग्री रहा। सुंदरनगर 11.1, भुंतर 8.2, कल्पा 0.2, धर्मशाला 11.6, ऊना 14.7, नाहन 12.1, केलांग 0.9, सोलन 11.2, मनाली 0.2 और सलूणी 4.5 डिग्री रिकार्ड किया गया।

मनाली में सबसे अधिक बारिश
शिमला। बीते 24 घंटों के दौरान मनाली में 43 मिमी, सलूणी 40, सेऊबाग 39, जोगिंद्रनगर 38, डलहौजी 36, हमीरपुर व धर्मशाला में 34, गग्गल 33, भुंतर 29, सुंदरनगर 27, ऊना 24, बंगाणा और बजौरा 22, बिलासपुर 21, जुब्बड़हट्टी 17, कुफरी 15, मंडी व सोलन 12, शिमला 11.8, कल्पा 0.4 और नाहन 0.4 मिमि बारिश रिकार्ड की गई।

Related posts