आरक्षण कोटा कॉलेजों में तय नहीं, आज थम जाएगी आवेदन प्रक्रिया

आरक्षण कोटा कॉलेजों में तय नहीं, आज थम जाएगी आवेदन प्रक्रिया

शिमला
हिमाचल प्रदेश के कॉलेजों में स्नातक डिग्री कोर्स के प्रथम वर्ष की आवेदन प्रक्रिया मंगलवार को थम जाएगी लेकिन अभी तक स्पोर्ट्स, सांस्कृतिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्रों के आरक्षण पर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है। ऑनलाइन आवेदन का मंगलवार को आखिरी दिन है। बुधवार को तय किए प्रवेश शेड्यूल के अनुसार पहली प्रवेश मेरिट लिस्ट जारी की जाएगी लेकिन अभी तक सरकार और विवि प्रशासन यह तय नहीं कर पाया है कि खेल, सांस्कृतिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्रों के लिए कितनी सीटें आरक्षित होंगी। 

 प्रदेश के सेंटर ऑफ एक्सिलेंस संजौली कॉलेज के साथ जिले के बड़े डिग्री कॉलेजों में मेरिट आधार पर प्रवेश दिया जाता है। आरक्षण को कैसे लागू किया जाएगा, इसको लेकर स्थिति स्पष्ट न होने से कॉलेज मेरिट लिस्ट तैयार नहीं कर पाएंगे। इसलिए कॉलेजों को सरकार और विवि प्रशासन के आदेशों का इंतजार करना होगा। सभी कॉलेजों ने पहले की तरह से स्पोर्ट्स, कल्चरल कोटा के तहत आवेदन आमंत्रित किए हैं। इस बार ईडब्लूएस श्रेणी के छात्रों ने भी आवेदन किए हैं लेकिन उन्हें सीटें तभी मिल पाएंगी जब सरकार, शिक्षा विभाग और यूनिवर्सिटी आरक्षण को लागू करने को लेकर कोई फैसला लेंगे।

   प्रदेश सरकार ने विश्वविद्यालय को आरक्षण रोस्टर को बनाने के आदेश जारी किए हैं लेकिन विवि इस पर अभी तक फैसला नहीं ले पाया है। इसलिए आरक्षण रोस्टर को किस तरह से प्रवेश में लागू किया जाना है, इसको लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।  प्रदेश सरकार ने पूर्व में जारी किए 200 प्वाइंट रोस्टर को ही कॉलेजों में प्रवेश के लिए जारी किया था। इसे वापस लेकर विवि को प्रवेश के लिए नया रोस्टर तैयार करने के आदेश दिए हैं। यदि मंगलवार को इस पर विवि फैसला नहीं लेता है तो शिक्षा विभाग को प्रवेश के लिए अंतिम तिथि बढ़ानी पड़ सकती है।

आज लिया जाएगा फैसला : कुलसचिव
विवि के कुलसचिव सुनील शर्मा ने कहा कि स्पोर्ट्स, कल्चरल और ईडब्लूएस कोटा के तहत दिए जाने वाले आरक्षण के मामले पर विवि में बैठक हो चुकी है। इस पर मंगलवार तक फैसला ले लिया जाएगा। 

हर वर्ग के लिए पहले पांच फीसदी सीटें थीं आरक्षित 
कॉलेजों में प्रवेश के लिए यूनिवर्सिटी की तरफ से पूर्व में जारी किए 120 प्वाइंट रोस्टर के तहत स्पोर्ट्स और कल्चरल वर्ग के लिए हर कोर्स में पांच-पांच फीसदी सीटें आरक्षित थीं। इसके अलावा इस बार दस फीसदी ईडब्लूएस का कोटा भी दिया जाना है। इसके अलावा अन्य आरक्षित श्रेणी के लिए कॉलेज प्रवेश में कुल 47.50 फीसदी कोटा दिया जाना है। इस पर अंतिम फैसला विवि को लेना है। 

Related posts