आतंकी खतरा: केंद्रीय एजेंसियों ने पंजाब सरकार को किया आगाह, भाजपा में शामिल नेताओं की सुरक्षा बढ़ी

आतंकी खतरा: केंद्रीय एजेंसियों ने पंजाब सरकार को किया आगाह, भाजपा में शामिल नेताओं की सुरक्षा बढ़ी

जालंधर (पंजाब)
पंजाब विधानसभा चुनाव को महज 30 दिन बचे हैं और आतंकी किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। ऐसी आशंका केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने पंजाब सरकार से जाहिर की है। इस संबंध में केंद्रीय व राज्य सरकार की खुफिया एजेंसियों को हाई अलर्ट जारी कर सुरक्षा चाक चौबंद करने के आदेश जारी किए गए हैं।

आईबी के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक कट्टरपंथी संगठन कट्टरपंथियों को रिहा कराने और पंजाब में खालिस्तान बनाने की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा सिख फॉर जस्टिस के गुरपतवंत सिंह पन्नू युवाओं को पैसों का लालच देकर भाजपा और पीएम मोदी के खिलाफ भड़का रहा है। वह लगातार अमेरिका, कनाडा से ऑडियो कॉल मैसेज जारी कर रहा है, जिससे पंजाब में स्लीपर सेल भी गठित हो चुके हैं। पाकिस्तान के आतंकी वधावा सिंह बब्बर (बीकेआई), परमजीत सिंह पंजवड़, रंजीत सिंह नीटा (केजेडएफ), लखबीर सिंह रोडे (आईएसवाईएफ) का इस्तेमाल पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई कर रही है। पंजाब में चुनावों में आरडीएक्स का इस्तेमाल किया जा सकता है।
भाजपा के बड़े नेताओं की सुरक्षा बढ़ी
पंजाब में टिफिन बम बरामद भी हो चुके हैं। आईबी के इनपुट पर केंद्र ने पंजाब के भाजपा चुनाव प्रभारी केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को जेड प्लस सुरक्षा प्रदान कर दी है, वहीं अकाली दल के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर बादल के ओएसडी परमिंदर बराड़ को वाई सुरक्षा दी गई है। पूर्व मंत्री राणा सोढ़ी को भी पहले ही जेड सुरक्षा कवच दिया जा चुका है, जो कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। प्रचार में दिल्ली से मनजिंदर सिरसा भी पंजाब आ रहे हैं, उन्हें जेड सुरक्षा कवच दे दिया गया है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस के 18 जवानों की तैनाती सिरसा के साथ की गई है। इसके अलावा भाजपा में जितने सिख नेता व मिशनरी शामिल हो रहे हैं, उनकी सुरक्षा भी मजबूत की जा रही है।

आईबी ने यह भी लिखकर चौकन्ना किया है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और अलगाववादी संगठन के आतंकियों ने आरडीएक्स को चुनाव के दौरान धमाके करने के लिए भेजा है, जिससे रैलियों में धमाके किए जा सकते हैं। शुक्रवार को भी भारत-पाक सीमा से सटे इलाके धनोया कलां में आरडीएक्स बरामद किया गया है। वहीं गुरुवार को भी गुरदासपुपर में 2.5 किलो आरडीएक्स और एके-47 के 12 कारतूस बरामद किए थे। एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ भी किया गया, जो इंडियन सिख यूथ फेडरेशन के लखबीर सिंह रोडे से संबंधित था। एजेंसियों की चिंता इस बात पर की है कि पंजाब में रैलियों के अलावा व जनसभाओं का समय सिर पर है। प्रत्याशी चुनावों के लिए डोर टू डोर प्रचार करने में जुटे हैं।
लखबीर रोडे सबसे बड़ा सिरदर्द
आईएसवाईएफ (रोडे) का स्वयंभू प्रमुख लखबीर सिंह रोडे इस समय केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए व पंजाब की काउंटर इंटेलिजेंस के लिए बड़ा सिरदर्द बना हुआ है। रोडे लगातार पाक से ड्रोन के जरिए आरडीएक्स भेज रहा है। टिफिन बम भी रोडे द्वारा पंजाब में भेजे गए थे। रोडे इस समय पाकिस्तान में है और उसने अपने साथी दीनानगर के खराल गांव निवासी सुखप्रीत सिंह उर्फ सुख के हाथों खेप भेजी थी। रोडे का भतीजा जालंधर से टिफिन बम के साथ गिरफ्तार किया जा चुका है।

एजेंसियों के मुताबिक, पिछले साल जून-जुलाई से रोडे पंजाब और विदेशों में अपने नेटवर्क के माध्यम से सिलसिलेवार आतंकी मॉड्यूलों को सक्रिय करने में प्रमुखता से शामिल रहा है। पठानकोट सेना के दरवाजे पर हैंड ग्रेनेड फेंकने के तार भी पाक में बैठे लखबीर रोडे से जुड़े पाए गए हैं। लखबीर रोडे, रिंदा संधू को पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई फंडिंग कर रही है। इन्होंने पंजाब में आतंकी वारदात को अंजाम देने के लिए 70 स्लीपर सेल तैयार किए हैं, जिनको चुनावों के दौरान इस्तेमाल किया जा सकता है।

Related posts